जेएनएन, बरेली : शहर की बदहाली पर रविवार को सूबे के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल खासे खफा दिखे। सर्किट हाउस में रविवार को मंडल और जिले के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक कर उन्होंने साफ तौर पर कहा कि त्योहार शुरू हो चुके हैं। व्यवस्थाएं कागजों में तो बन गईं लेकिन जमीन पर नहीं दिखाई दे रही हैं। सभी चौराहों पर जाम है। शहर में पानी की समस्या अभी से गहराने लगी है। किला और राजेंद्र नगर में चार-पाच दिन से पानी नहीं आ रहा है। इसका समाधान कराया जाए। बदहाल सड़कों पर उन्होंने कहा कि पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर ने अभी तक सड़कों के गड्ढे भरने की प्रक्रिया शुरू नहीं कराई है। उन्होंने कमिश्नर से कहा कि सड़कों की मरम्मत का काम जल्द शुरू कराया जाए। इसमें लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। स्कूल बसों और अन्य स्कूली वाहनों में बच्चों की जान के साथ जिस तरह खिलवाड़ किया जा रहा है, उस पर तत्काल अंकुश लगाया जाए। उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में लगातार हादसों को देखते हुए परिवहन विभाग अभियान चलाकर देखे कि नियमों का पालन क्यों नहीं हो रहा है। बैठक में कमिश्नर रणवीर प्रसाद, एडीजी प्रेम प्रकाश, एसएसपी मुनिराज, सिटी मजिस्ट्रेट अशोक कुमार शुक्ला आदि अफसर मौजूद थे। त्योहारों के मद्देनजर भी बनाएं मुकम्मल योजना पांच नवंबर को धनतेरस के साथ ही आला हजरत के उर्स का कुल भी है। आठ से 10 लाख की भीड़ सड़कों पर होगी, उसके लिए क्या इंतजाम किए गए हैं। दीपावली पर पटाखों का कारोबार बड़े पैमाने पर होता है। सुझाव दिया कि शहर के ऐसे चार स्थान चयनित किए जाएं जहा बाजार लग सकें। यहां हादसों से बचने के माकूल इंतजाम किए जाएं। त्योहार के दौरान आमजन की सुरक्षा के लिए सड़कों पर सादी वर्दी में पुलिसकर्मी तैनात किए जाएं। उन्होंने त्योहार के दौरान बिजली व्यवस्था ठीक रखने और फॉल्ट तत्काल दूर किए जाने के भी निर्देश दिए।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस