जेएनएन, बरेली : पड़ोसी की युवती से प्रेम विवाह करने वाले कुलदीप की हत्या हुई है। यह तो स्पष्ट हो गया, लेकिन पेच फंसा है कि हत्या किसने की है। इस बात को जानने के लिए पुलिस गुरुवार को कुलदीप के गांव पहुंची। गांव दोहरिया निवासी गनपत राम कश्यप के पुत्र कुलदीप ने पड़ोसी की दूसरी जाति की युवती दुर्गा से प्रेम विवाह किया था।

दस जनवरी को वह दिल्ली नौकरी करने की बात कहकर पत्नी के साथ निकला था। इसके बाद 13 जनवरी को फतेहगंज पश्चिमी क्षेत्र के अगरास जाने वाले मार्ग पर कुलदीप का शव मिला, लेकिन पत्नी दुर्गा का अब तक कुछ पता नहीं लगा है। मामले की जांच करने गुरुवार को फतेहगंज पश्चिमी थाना के इंस्पेक्टर क्राइम राजवीर सिंह व उप निरीक्षक रामवीर सिंह ने कुलदीप के पिता गनपतराम, भाइयों व दुर्गा के पिता से पूछताछ की।

इसके बाद गांव भोजीपुरा में साथी किराएदार गंगाराम के परिजनों व मकान मालिक रामचन्द्र शर्मा से भी बातचीत की है। मकान मालिक रामचन्द्र शर्मा ने बताया कि कुलदीप का पत्नी दुर्गा से काफी विवाद हुआ था। दुर्गा कुलदीप के साथ अलग रहना चाहती थी। वह 24 दिसंबर से नौ जनवरी तक कुलदीप के घर पर ही रही।

पत्नी सामने आए तो खुले राज : इंस्पेक्टर क्राइम राजवीर सिंह ने करीब चार घंटे तक दोहरिया में परिजनों और मकान मालिकों और किराएदारों व गांव के लोगों से गोपनीय पूछताछ की। इंस्पेक्टर का कहना है जब तक दुर्गा सामने नहीं आयेगी तब तक कुछ भी नहीं कहा जा सकता। फिलहाल, पुलिस अब दुर्गा की तलाश में जुटी है। शक भोजीपुरा के आसपास ही हत्यारे पर घूम रहा है।

विसरा की रिपोर्ट का इंतजार : कुलदीप के शव की जब तक विसरा की रिपोर्ट नहीं आयेगी, तब तक एफआइआर भी दर्ज नहीं होगी। इंस्पेक्टर फतेहगंज ने बताया कि पोस्टमार्टम में जहर के संकेत मिले हैं, लेकिन कारण स्पष्ट नहीं है। इसलिए विसरा रिपोर्ट का इंतजार है। कुलदीप के परिजनों ने तहरीर नहीं दी है।

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस