जेएनएन, बरेली : दंगल का आखिरी दिन। दर्शकों से खचाखच भरा मैदान। 21 हजार का दांव ..और 25 मिनट की कुश्ती। माटी शरीर पर लगाते हुए दोनों पहलवान अखाड़े में उतरे तो दर्शक रोमांचित हो उठे। जोर आजमाइश चलती रही। एकाएक मेजबान पहलवान की चीख के साथ दर्शकों का शोर खामोशी में तब्दील हो गया। पैर में तकलीफ चलते उसे कुश्ती छोड़नी पड़ गई। जिस पर दिल्ली के आसिफ को दंगल का सुल्तान घोषित कर दिया गया।

नसें खिचने से तड़पने लगा पहलवान 

जोगी नवादा में चल रहे बाबा वनखंडी नाथ विराट राष्ट्रीय एकता दंगल में आखिरी दिन मंगलवार को 24 कुश्तियां लड़ी गईं। दिल्ली के आसिफ और स्थानीय गुलाब अखाड़ा के विक्की पहलवान से मुकाबला हुआ। विक्की पैर की नसें खिंचने पर दर्द से तड़पने लगा। तीन मिनट बाद तक अखाड़े में नहीं लौटे, तब आसिफ को विजेता घोषित कर दिया। इसके अलावा, मुजफ्फरनगर के साजिद और गुलाब अखाड़ा के शाकिर के बीच 11 हजार की एलानिया कुश्ती बराबरी पर छूटी। मेला संयोजक गिरधारी लाल साहू और रेफरी अजीज पहलवान ने विजेताओं को सम्मानित किया। इस दौरान धर्मेद्र राठौर, संजीव शर्मा, टिंकू पहलवान आदि मौजूद रहे।

 

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस