जेएनएन, बरेली : पॉलीटेक्निक संस्थानों में दाखिले के लिए होने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा में अब सभी परीक्षार्थियों की बायोमीटिक हाजिरी लगेगी। यह व्यवस्था ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रवेश परीक्षाओं में लागू होगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद ने फर्जी परीक्षार्थियों पर नकेल कसने के लिए इस व्यवस्था को लागू किया है।

प्रदेश भर में राजकीय, एडेड और प्राइवेट मिलाकर 1296 पॉलीटेक्निक संस्थान संचालित हैं। हर साल इनमें दाखिले के लिए संयुक्त प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है। इस बार प्रवेश परीक्षा ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में कराई जानी हैं। मुन्नाभाइयों पर नकेल कसने के लिए परिषद ने तैयारी शुरू कर दी है। पहली बार प्रवेश परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों की सेंटर पर बायोमीटिक उपस्थिति लगेगी।

परीक्षार्थ‍ियों का उनका फोटो से भी रिकॉर्ड से मिलाया जाएगा। इसके बाद उन्हें परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दी जाएगी। संयुक्त प्रवेश परीक्षा परिषद के सचिव संतोष कुमार वैश्य ने फोन पर बताया कि हर केंद्र पर बायोमीटिक मशीन लगाई जाएगी। इस व्यवस्था से फर्जी परीक्षार्थी नहीं शामिल हो पाएंगे।

केंद्र पर यह प्रपत्र लाना जरूरी: हर परीक्षार्थी को एडमिट कार्ड के साथ पहचान पत्र(वोटर कार्ड, आधार कार्ड, स्कूल आइकार्ड में से कोई एक) लेकर आना अनिवार्य होगा। इसके बिना परीक्षा में शामिल होना मुश्किल होगा।

26 अप्रैल को 800 केंद्रों पर ऑफलाइन परीक्षा

26 अप्रैल को सुबह नौ से 12 बजे तक ग्रुप-ए डिप्लोमा इंजीनियरिंग की ऑफलाइन परीक्षा के लिए 800 सेंटर बनाए जाएंगे। दूसरी पाली में 2.30 से 5.30 बजे तक दूसरे ग्रुप की परीक्षा 125 सेंटरों पर होगी। इसके अलावा 27 अप्रैल को दोनों पाली में होने वाली ऑनलाइन परीक्षा के लिए केंद्र चयन की जिम्मेदारी एजेंसी को सौंपी गई है। यह एजेंसी ही ऑनलाइन परीक्षा कराएगी। इसके बाद परिणाम घोषित किए जाएंगे।

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस