जेएनएन, बरेली : बरेली कॉलेज के एमए और एमएड के छात्र-छात्रएं अब शहर के विभिन्न मुद्दों पर शोध और सर्वे करेंगे। इसके लिए गुरुवार को कॉलेज प्रशासन ने डिजरटेशन और प्रोजेक्ट वर्क आवंटन को लेकर बड़ा बदलाव किया है। यह इसी सत्र से लागू कर दिया गया है। यह सुझाव जिलाधिकारी नितीश कुमार ने हाल ही में प्राचार्य को दी थी।

कॉलेज में प्राचार्य डॉ. अनुराग मोहन की अध्यक्षता में अर्थशास्त्र, संस्कृत, समाजशास्त्र, कॉमर्स, हिंदी, भूगोल, इतिहास, राजनीतिशास्त्र और एमएड के विभागाध्यक्षों के साथ बैठक की। इसमें उन्होंने जिलाधिकारी नितीश कुमार के आइडिया पर चर्चा की। डीएम ने कुछ दिन पहले सुझाव दिया था कि कॉलेज के जो छात्र एमए और एमएड में डिजरटेशन या प्रोजेक्ट वर्क तैयार करते हैं उसका विषय शहर से जुड़ा होना चाहिए।

2003 से अभी तक छात्र दुनिया के उन हिस्सों का टॉपिक चयनित कर लेते थे जिससे शहर का कोई मतलब ही नहीं हुआ करता था। इसमें ज्यादातर कॉपी पेस्ट करके छात्र काम चला लेते थे। जिलाधिकारी ने आइडिया दिया था कि अगर शहर पर केंद्रीय प्रोजेक्ट और सर्वे होगा तो छात्रों को शहर के बारे में तो मालूम चलेगा ही साथ में नए डेटा भी सरकार को उपलब्ध हो सकेगा। इससे विकास कार्यो को मजबूती मिलेगी।प्राचार्य डॉ. अनुराग मोहन ने बताया कि सभी विभागाध्यक्षों ने इसे स्वीकार कर लिया है। इसी सत्र से इसे लागू कर दिया जाएगा।

 

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस