बरेली, जेएनएन। Indian Navy Commissioned Officer Parikshit Gangwar News: भारतीय नौसेना अकादमी केरल में बी टेक एन्ट कोर्स 101 में 123 कैडेट्स को सब लेफ्टिनेंट के रूप में कमीश्निंग दी गई। जिसमें बरेली से परीक्षित गंगवार शामिल थे । परीक्षित के पिता डा. उमा चरण बरेली कालेज में समाजशास्त्र विषय में एसोसिएट प्रोफेसर हैं। परीक्षित की मां डा.रंजू राठौर रानी अवंती बाई लोधी महिला महाविद्यालय में समाजशास्त्र विभाग की विभागाध्यक्ष हैं। परीक्षित ने सेंट फ्रांसिस कान्वेंट स्कूल बरेली से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की। वह बचपन से ही भारतीय सेना में अपनी सेवा देना चाहते थे। भारतीय नौसेना अकादमी में परीक्षित ने वर्ष 2018 में बीटेक एंट्री में प्रवेश लिया था। अब चार वर्ष बाद उन्हें बीटेक की डिग्री के साथ भारतीय नौसेना में राजपत्रित अधिकारी के रूप में नियुक्ति मिली है।

तहसील को मिला एक और नौसेना अधिकारी

तिलहर तहसील को एक और नौसेना अधिकारी मिल गए हैं। क्षेत्र के राजनपुर गांव निवासी परीक्षित गंगवार को भारतीय नौसेना में सब लेफ्टिनेंट के रूप में शनिवार को कमीशन मिला। भारतीय नौसेना अकादमी एझिमाला केरल में पासिंग आउट परेड के बाद उन्हें सब लेफ्टिनेंट के रूप में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया। उनके माता पिता भी वहां मौजूद रहे। परीक्षित गंगवार का चार साल पहले भारतीय नौसेना अकादमी एझिमाला में बीटेक इलेक्ट्रानिक्स एंड कम्युनिकेशन में चयन हुआ था।

प्रशिक्षण के बाद उन्हें नौसेना में कमीशन मिलाद्ध परीक्षित का चयन नौसेना के गुजरात के जामनगर स्थित प्रशिक्षण केंद्र में एमटेक इलेक्ट्रानिक्स एंडकम्युनिकेशन में भी हो गया है। प्रशिक्षण के दौरान परीक्षित गंगवार को रोइंग और लंबी दूरी की दौड़ में स्वर्ण पदक हासिल हुआ है। परीक्षित गंगवार की शिक्षा बरेली के सेंट फ्रांसिस कांवेंट स्कूल में हुई है। परीक्षित के बाबा भगवानदास मस्ताना शिक्षक रहे। बहन माना गंगवार कक्षा 11 की छात्रा हैं। चाचा प्रेमशंकर गंगवार, शरद गंगवार व परिवार के अन्य सदस्य नगर के निजामगंज मुहल्ले में रहते हैं। इससे पहले नगर के मुहल्ल्ला कुंवरगंज निवासी शुभांगी स्वरूप भारतीय नौसेना के पहली महिला पायलट बनीं थीं। उनके पिता भी नौसेना में हैं।

Edited By: Ravi Mishra