बदायूं, जेएनएन : बेटे व उसके दोस्त को लेकर गांव लौट रहे बुजुर्ग की लुटेरों ने गोली मारकर हत्या कर दी। इसके बाद लूटपाट कर फरार हो गए। पुलिस ने छह अज्ञात लुटेरों पर मुकदमा दर्ज किया है। 

कोतवाली क्षेत्र के गांव जमरौली निवासी आनंदपाल सिंह के बेटे कुंवरपाल और पड़ोसी कृपाल रायबरेली में रहकर स्प्रे पेंटिंग करते हैं। दोनों मंगलवार को वापस गांव लौट रहे थे। उझानी बाईपास पर बस से उतरते वक्त देर रात करीब तीन बजे उन्होंने अपने पिता कुंवरपाल को फोन कर आने को कहा। साढ़े तीन बजे वह बाइक से पहुंचे और उन दोनों को लेकर गांव लौट रहे थे। रास्ते में मानकपुर और रौली गांव के बीच सड़क पर अचानक लुटेरे आ गए। कुंवरपाल ने ब्रेक लगाए, इतने में छह नकाबपोश लुटेरों ने घेर लिया। तीनों को बाइक से उतारा और कुंवरपाल से साढ़े छह हजार रुपये, कृपाल से 16 सौ रुपये व मोबाइल सेट लूट लिए। बाइक की चाबी भी निकाल ली। इस दौरान आनंदपाल ने एक लुटेरे से हाथापाई शुरू कर दी। इससे बौखलाए लुटेरे ने उन्हें गोली मारी। फायरिंग होती देख दोनों युवक जान बचाने के लिए खेत की ओर भागे, वहीं लुटेरे भी फरार हो गए। इसके बाद कुंवरपाल फिर मौके पहुंचे। लहूलुहान पड़े पिता की जेब से मोबाइल निकाला और यूपी 100 को घटना की जानकारी दी। 

सूचना पर पहुंची फोर्स, घटनास्थल खंगाला

लूट व हत्या की सूचना पर फोर्स पहुंची। घटनास्थल को खंगाला गया। कुंवरपाल का मोबाइल भी बाजरा के खेत में मिल गया। जबकि बैग समेत नकदी व कृपाल का मोबाइल लेकर बदमाश फरार हो गए। 

पेट में मिले छर्रे 

पुलिस ने वहां से शव कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम को भेज दिया। दोपहर बाद उसका पोस्टमार्टम हुआ तो रिपोर्ट में पेट में गोली लगने से मौत की पुष्टि हुई है। 12 बोर के छर्रे पेट में मिले हैं। बदमाशों ने गोली आनंदपाल के पेट से सटाकर मारी थी। यही वजह रही कि छर्रे पीएम में मिल गए। पुलिस ने आसपास इलाके में कांङ्क्षबग भी की लेकिन गिरोह का कोई सुराग नहीं लगा। 

 
अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा
 
कोतवाल उझानी विनोद चाहर ने बताया कि आनंदपाल सिंह के बेटे की तहरीर पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ मुकदमा लिखा गया है। मामले की हर पहलू पर जांच की जा रही है।   

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस