बरेली, जेएनएन। कोरोना काल का असर टैक्स वसूली में साफ देखने को मिला रहा है। मंडल में इस बार करीब 14.40 फीसद जीएसटी संग्रह घट गया है। चारों जिलों में सबसे अधिक गिरावट बरेली में आई है। वही, शाहजहांपुर में एक महीने का टैक्स का आंकड़ा पहले से सुधार में दिखाई दे रहा है। कोई भी ऐसा कारोबार नहीं है, जिसमें कमी नहीं आई है। टैक्स वसूली में गिरावट का कारण अधिकारी व्यापारिक परिस्थितियां अनुकूल नहीं होना मान रहे हैं।

वित्तीय वर्ष 2020-21 का आगाज लॉकडाउन से हुआ। लॉकडाउन के कारण पहले सभी उद्योग व व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। उसके बाद कई महीने तक उत्पादन शुरू नहीं हो पाया। अगस्त में उद्योग चले तो उत्पादन शुरू हो गया। धीरे-धीरे कारोबार बढ़ा तो वस्तु एवं सेवा कर भी लोग देने लगे। सितंबर से टैक्स आना शुरू हो गया, लेकिन इसकी दर पिछले साल के मुताबिक हमेशा ऋणात्मक ही रही। यही कारण रहा कि वित्तीय वर्ष समाप्त होते-होते भी उद्योग-व्यापार दम नहीं भर पाया और टैक्स वसूली के लक्ष्य से काफी पीछे रह गया।वाणिज्य कर विभाग के एडिश्नल कमिश्नर ग्रेड वन एमएन वर्मा ने बताया कि कोरोना काल के चलते लॉकडाउन में उद्योग-धंधे नहीं चले। बाद में खुले तो कई दिनों तक उत्पादन नहीं हुआ। इसका असर जीएसटी कलेक्शन में भी देखा गया है। मंडल में पिछले साल की तुलना में इस बार जीएसटी संग्रह घट गया है। इसे बढ़ाने का प्रयास करेंगे।

बरेली में सबसे अधिक आई गिरावट

उद्योग-धंधे बंद होने के कारण उत्पादन ही नहीं हुआ। तमाम वस्तुओं की खरीद-फरोख्त भी नहीं हुई। बाजार हल्का होने की वजह से मंडल में पिछले साल की अपेक्षा 14.40 फीसद टैक्स वसूली घट गई। सबसे अधिक गिरावट बरेली में करीब 16.55 फीसद रही। बदायूं में पिछले साल के बराबर ही टैक्स मिल गया। शाहजहांपुर में भी गिरावट का आंकड़ा पहले से अधिक रहा।

बदायूं में सबसे अधिक हुई टैक्स वसूली

कोरोना काल के चलते शासन ने पिछले वित्तीय वर्ष में टैक्स वसूली का लक्ष्य नहीं बढ़ाया था। लक्ष्य के सापेक्ष टैक्स वसूली में बदायूं जिला सबसे आगे रहा। वहां 68.81 फीसद टैक्स की वसूली हुई। दूसरे स्थान पर शाहजहांपुर रहा, जहां लक्ष्य के बदले करीब 64.74 फीसद टैक्स जमा कराया गया। तीसरे स्थान पर पीलीभीत का नंबर आया। यहां 64.28 फीसद टैक्स मिला। टैक्स वसूली में बरेली की स्थित सबसे खराब रही। यहां लक्ष्य के हिसाब से मात्र 61.33 फीसद ही टैक्स मिल पाया।

मार्च में शाहजहांपुर का आंकड़ा बेहतर

मंडल के चारों जिलों में मार्च में टैक्स वसूली अच्छी हुई। एक महीने में टैक्स वसूली के मामले में पिछले साल मार्च की तुलना में सबसे अच्छा आंकड़ा शाहजहांपुर का रहा। यहां पहले से 6.66 फीसद अधिक टैक्स वसूला गया। बदायूं को एक महीने में पिछले साल की तुलना में 7.44 फीसद और पीलीभीत को 7.77 फीसद कम टैक्स मिला। बरेली का एक महीने का टैक्स रिकवरी का आंकड़ा पिछले साल की अपेक्षा 14.51 फीसद घट गया।

मंडल की टैक्स वसूली का तुलनात्मक आंकड़ा

जिला - मार्च तक का लक्ष्य - प्राप्ति (2021) - प्राप्ति (2020) - वसूली प्रतिशत - कमी का प्रतिशत

बरेली - 909.29 - 557.68 - 668.28 - 61.33 - 16.55

बदायूं - 92.92 - 63.94 - 65.80 - 68.81 - 2.83

पीलीभीत - 86.53 - 55.61 - 60.61 - 64.28 - 8.23

शाहजहांपुर - 249.36 - 161.43 - 185.04 - 64.74 - 12.76

(नोट : धनराशि करोड़ रुपये में)