जासं, बरेली: बरसात के बाद बाकरगंज के लोगों को कूड़े के ढेर से निजात मिलेगी। शासन स्तर से कूड़ा निस्तारण प्लांट लगाने से पहले नगर निगम वहां अपने स्तर से कूड़ा निस्तारण शुरू कर देगा। इसके लिए मशीनें खरीदी जा रही हैं और वहां शेड भी बनाया जाएगा।

बाकरगंज खड्ड में वर्षों से शहर का सारा कूड़ा फेंका जा रहा है। करीब सात लाख टन कूड़ा वहां इकट्ठा हो गया है। इसमें से 80 फीसद कूड़ा मिट्टी बन चुका है। अब वहां शहर का कूड़ा डालने की जगह नहीं बची है। इस कूड़े के निस्तारण के लिए नगर निगम वहां प्लांट लगाने वाला है। मशीनें खरीदने और शेड निर्माण का टेंडर निगम ने कर लिया है। प्लांट के संचालन के लिए कंपनी को आमंत्रित किया जा रहा है। बरसात के बाद सितंबर में कूड़ा निस्तारण शुरू होने की उम्मीद है।

दो करोड़ से अधिक खर्च कर रहा निगम

पर्यावरण अभियंता संजीव प्रधान ने बताया कि नगर निगम कूड़ा निस्तारण के लिए 1.53 करोड़ रुपये की मशीनें खरीद रहा है। मेरठ की कंपनी के साथ अनुबंध भी किया जा चुका है। कंपनी ट्रामल, सेपरेटर, थीठ ग्रेव एसक्वेटर, श्रेडर समेत अन्य मशीनें खरीद कर निगम को देगी। 60 लाख रुपये खर्च कर वहां शेड बनाया जा रहा है, जिसका टेंडर भी कर दिया गया है। शेड का लेआउट बनाया जा चुका है। जल्द निर्माण शुरू होगा। मशीनों के संचालन के लिए 27 जुलाई को टेंडर होंगे।

स्मार्ट सिटी परियोजना से 20 करोड़ मंजूर

बाकरगंज खड्ड में पड़े कूड़े के निस्तारण के लिए स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत 20 करोड़ रुपये मंजूर किए गए हैं। शासन के निर्देश पर जल निगम की कार्यदायी संस्था सीएनडीएस ने पुराना कूड़ा निस्तारण के लिए हरी-भरी कंपनी को टेंडर कर दिया है। कंपनी बरसात के बाद प्लांट लगाकर काम शुरू करेगी।

वर्जन

स्मार्ट सिटी परियोजना के साथ ही नगर निगम अपने संसाधनों से भी बाकरगंज खड्ड में पड़े कूड़े के निस्तारण का प्रयास कर रहा है। मशीनें खरीदने व शेड निर्माण का टेंडर हो चुका है। वहां मशीनों के संचालन के लिए भी टेंडर किए जाएंगे। जल्द कूड़ा हटवाया जाएगा।

अभिषेक आनंद, नगर आयुक्त

Edited By: Jagran