बरेली, जेएनएन। Electricity Connections Given in City at Address of Village : हाइटेक सेवा के बावजूद बिजली कनेक्शन के नाम पर विभाग में खेल चल रहा है। ऐसा ही मामला रोजा बिजली क्षेत्र में पकड़ में आया है। आइटीआइ के कालोन के कई आवेदकों को ट्रांसफार्मर को ओवरलोड बताकर बिजली कनेक्शन नहीं दिए गए। लेकिन उसी क्षेत्र में 12 लोगों को गांव के पते पर सौभाग्य योजना के तहत बिजली कनेक्शन देकर शहरी फीडर से जोड़ दिया गया।

एसडीओ ने जांच में अवैध कनेक्शन पाए जाने पर सभी के मीटर उतार लिए है।  जनपद में सौभाग्य योजना के तहत गांव में बिजली कनेक्शन देने के लिए बजाज कंपनी को अधिकृत किया गया था। कंपनी और विभागीय कार्मिको की मदद से कुछ लोगाें ने गांव के पते पर सौभाग्य योजना के तहत कनेक्शन लेकर रोजा बिजलीधर के शहरी फीडर से कनेक्शन जुड़वा लिया। जिन आवेदकों को कनेक्शन नहीं मिला, उन्होंने शिकायत की। अधिशासी अभियंता के जांच कराने पर मामला सामने आया।

हाइटेक सेवा को दिखाया आइनाः बिजली विभाग के शातिरों हाईटेक सेवाओं को भी आइना दिखाना शुरू कर दिया है। दरअसल विभाग ने उन लोगों के कनेक्शन आवंटित कर दिए, जिनके झटपट पोर्टल पर रिजेक्ट हो गए थे। बिजली विभाग के अभियंता भी हतप्रभ है। विद्युत वितरण खंड प्रथम के अधिशासी अभियंता रंजीत कुमार ने बताया कि सौभाग्य योजना के कनेक्शन को शहरी फीडर से कैसे जोड़ा गया, इसकी जांच कराई जा रही है। कार्यदायी संस्था बजाज कंपनी से जवाब मांगा गया है। मामले में दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

Edited By: Samanvay Pandey