जागरण संवाददाता, बरेली: फिजा की मौत की गुत्थी हत्या और आत्महत्या के बीच उलझ गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उसके मौत का कारण साफ नहीं हो सका है। लिहाजा, विसरा सुरक्षित किया गया है। अब जांच के लिए उसे लैब भेजा जाएगा, तभी उसकी मौत का कारण स्पष्ट हो सकेगा। डीएम की अनुमति के बाद शुक्रवार को फिजा का शव कब्र से निकालकर पैनल के जरिये पोस्टमार्टम कराया गया था।

इज्जतनगर के बिहारकला निवासी इकरार की बेटी फिजा की मौत के बाद उसका शव दफना दिया गया था। गुरुवार को उसकी हत्या की चर्चा फैल गई। एडीजी, आइजी व यूपी पुलिस को वीडियो ट्वीट करते हुए कहा गया कि किशोरी की हत्या कर उसका शव फंदे से लटका दिया गया। बाद में शव को सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। ट्वीट किए वीडियो में बोल रहे बच्चे ने चाचा पर आरोप लगाया था। उसे मारकर शव फंदे पर लटकाने की बात कही थी। इसी के बाद इज्जतनगर पुलिस हरकत में आई। शव को कब्र से निकाल पोस्टमार्टम कराने के लिए पत्र भेजकर डीएम से अनुमति मांगी गई। शुक्रवार को शव को कब्र से निकाला गया, शनिवार को पोस्टमार्टम हुआ।

फूल गया था शरीर, छूटने लगी थी खाल

किशोरी को तीसरे दिन कब्र से निकाला गया। उसका शव फूल गया था, उसके शरीर से खाल छूटने लगी थी। लिहाजा, खाल छूटने के चलते ही माना जा रहा है कि उसके शरीर पर कोई निशान नहीं मिले। गले में भी चोट के निशान नहीं मिले। बहरहाल, पोस्टमार्टम में तस्वीर साफ न होने के चलते पुलिस किशोरी की मौत की कहानी में उलझ गई है।

परिवार सहित घर छोड़कर भाग गए स्वजन

इज्जतनगर इंस्पेक्टर संजय कुमार ने बताया कि किशोरी के स्वजन परिवार सहित घर छोड़कर फरार हैं। पुलिस उनकी तलाश में जुटी है। स्वजन के भागने पर अब उन पर ही सवाल खड़े हो रहे हैं। भूमिका संदेह के घेरे में है।

Edited By: Jagran