जेएनएन, पीलीभीत: नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में बिना अनुमति धरना, प्रदर्शन करने वालों पर सख्ती शुरू हो गई। पुलिस ने कांग्रेस जिलाध्यक्ष हरप्रीत सिंह चब्बा समेत 32 लोगों को नामजद तथा सौ से अधिक अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पांच लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है।

शहर के मुहल्ला शेर मुहम्मद में गुरुवार को दोपहर अचानक दर्जनों महिलाएं सीएए के खिलाफ धरना देकर बैठ गई थीं, नारेबाजी व प्रदर्शन किया। पुलिस एवं प्रशासनिक अधिकारियों ने उन्हें समझाया तब चार घंटे बाद धरना, प्रदर्शन खत्म हो सका। अगले दिन शुक्रवार की वजह से पुलिस ने कार्रवाई नहीं की।

शनिवार को सदर कोतवाली में इस मामले में 32 लोगों को नामजद व सौ से ज्यादा अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। जिसमें लिखा गया कि उक्त लोगों ने बिना अनुमति धरना देकर माहौल खराब किया। मौके पर तोडफ़ोड़ की।

सुबह को मुकदमा दर्ज करने के बाद आरोपितों की धरपकड़ भी शुरू कर दी गई। दोपहर को भारत मुक्ति मोर्चा के पीलीभीत-शाहजहांपुर जिले के प्रभारी एवं कानपुर देहात जिले के थाना घाटमपुर के गांव गिरीश निवासी पंकज नागवंशी तथा पीलीभीत निवासी इम्तियाज, बाबर, अतुल वाल्मीकि, तसलीम रजा को गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तार इम्तियाज टेंट हाउस चलाता है। नामजद मुख्य आरोपित अब्दुल मोहिद के घर भी दबिश दी गई मगर वह नहीं मिला। उसके परिवार के लोगों का कहना है कि पुलिस ने तोडफ़ोड़ की। कार्रवाई होती देख कांग्रेस के प्रांतीय उपाध्यक्ष व पूर्व विधायक पंकज मलिक के पार्टी नेता अब्दुल के परिवार से मिले और मदद का भरोसा दिया।

सीएए के खिलाफ धरना प्रदर्शन कर माहौल खराब करने का प्रयास करने के मामले में मुकदमा दर्ज कर पांच आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है। मुख्य आरोपित अब्दुल मोहिद की तलाश में भी दबिश दी मगर वह नहीं मिला। उसके घर तोडफ़ोड़ का आरोप गलत है।

- प्रवीण सिंह मलिक, सीओ सिटी 

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

जागरण अब टेलीग्राम पर उपलब्ध

Jagran.com को अब टेलीग्राम पर फॉलो करें और देश-दुनिया की घटनाएं real time में जानें।