बरेली, जेएनएन। Farmer Accident Insurance Scheme Scam :  मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना बीमा योजना में 20 लाख रुपये गबन का मामला सामने आया है। इस मामले में तहसीलदार की ओर से चार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। साथ ही अंदेशा जताया गया है कि इस पूरे मामले में यूको बैंक के कर्मचारी भी शामिल हैं।

25 अक्टूबर 2020 को ब्लाक सलारपुर क्षेत्र के गांव कुनार निवासी सचिन, आजाद, योगेंद्र व देव समेत अन्य युवक सेना भर्ती की तैयारी करने के लिए दौड़ लगाने गए थे। सुबह चार बजे करीब बदायूं मुरादाबाद हाइवे पर तेज रफ्तार कार ने उन चारों को टक्कर मार दी थी। जिससे सचिन, आजाद, योगेंद्र व देव की मौके पर ही मौत हो गई थी। इसके बाद चारों मृतक के स्वजन की ओर से जिलाधिकारी से मुख्यमंत्री किसान दुर्घटना योजना के तहत मदद दिलाए जाने की मांग की थी। चारों युवकों के पास खेती थी, इसके चलते उनके आवेदन स्वीकार करते हुए मृतक दुर्घटना की राशि पांच-पांच लाख रुपये खाते में ट्रांसफर कर दी गई।

इसी बीच कोरोना संक्रमण फैल जाने के चलते मृतक युवकों के स्वजन बैंक नहीं जा पाए। लेकिन जब संक्रमण खत्म होने के बाद वह लोग बैंक गए तो उनके द्वारा दिए गए प्रथमा बैंक के खातें में योजना के तहत डाले गए पांच पांच लाख रुपये आए ही नहीं थे। इस पर उन्होंने फिर जिलाधिकारी दीपा रंजन के समक्ष पेश होकर जानकारी दी। इस पर जिलाधिकारी ने तहसीलदार सदर, एलडीएम, अतिरिक्त एसडीएम और एसडीएम सदर की कमेटी बनाकर मामले की जांच कराई। जांच में पाया गया कि जिला मुख्यालय से योजना का लाभ देते हुए चार लोगों के खाते में धनराशि 20 लाख रुपये भेजी गई है। लेकिन आवेदकों ने जो खाते नंबर दिए थे वह खाते अलग थे।

इस पर बैंक खाता संख्या देखने पर पाया कि यह धनराशि आवास विकास कालोनी निवासी महेश कुमार सिंह, उनके भाई अशोक कुमार, मां दुलारो देवी व पिता नंदराम के इंदाचौक शाखा यूको बैंक के खाते में भेजी गई है। इस पर शनिवार को तहसीलदार सदर करनवीर सिंह ने मामले में महेश कुमार सिंह को मुख्य आरोपित बनाते हुए अशोक कुमार, दुलारो देवी व नंदराम के खिलाफ गबन, धोखे के लिए साजिश रचना, गलत तरीके से धन लेना, दस्तावेज से छेड़छाड आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है।

इसे लेकर स्वजनों ने हंगामा काटा और सीडीओ को ज्ञापन सौंपकर आरोपितों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। इस संबंध में तहसीदार करनवीर सिंह ने बताया कि मुकदमा दर्ज करा दिया गय है। इस मामले में और लोग शामिल होंगे तो उनके नाम भी शामिल किए जाएंगे।

Edited By: Ravi Mishra