जागरण संवाददाता, बरेली : शहर में नालों की सफाई का नगर निगम अफसरों का दावा आधा-अधूरा साबित हो रहा है। अब तक शहर के कई मुहल्लों में नालों की सफाई नहीं हो पाई है। जहां हुई भी है तो तली झाड़ सफाई का अभाव है। बीते दिनों जिन स्थानों पर अतिक्रमण हटाया गया वहां की नालियों से भी मलबा नहीं हटाया गया। आलम यह है कि इन नालियों में भीषण गंदगी भरी हुई है। दैनिक जागरण की टीम ने गुरुवार को कटरा चांद खां से ईसाइयों की पुलिया की ओर बहने वाले नाले को देखा। नाले में कूड़े के साथ ही मलबा भी पड़ा था। इससे वहां भीषण दुर्गध उठ रही है। अब तक नाला साफ नहीं कराया गया है।

अतिक्रमण से पटा है नाला

कटरा चांद खां से आ रहे नाले में सफाई नहीं होने की वजह वहां नाले पर किया गया अतिक्रमण है। कई दुकानों के आगे स्लैब बना दिए गए हैं। इसके साथ ही पक्के निर्माण भी नाले पर है। इस कारण पानी चोक हो रही है। लोगों ने सबसे ज्यादा अतिक्रमण एक बेकरी के पास होने की शिकायत की। कुछ जगह नाला अभी तक कच्चा है। इससे सड़क पर भी पानी भरने के आसार हैं।

नाले से नहीं हटाया मलबा

सड़क किनारे कुछ समय पहले नगर निगम ने अतिक्रमण विरोधी अभियान चलाया था। कई जगह पक्के निर्माण तोड़े गए। टूट-फूट के कारण निकला मलबा नाले में भी गिरा। तब से अब तक नाले की सफाई नहीं कराई गई है। इस कारण नाला चोक होने की स्थिति में पहुंच गया है। इस कारण लोग परेशान हैं। बरसात में नाले का पानी सड़क पर भरेगा।

लोगों से बातचीत

- बीते दिनों तोड़े गए अतिक्रमण का मलबा भी नाले में पड़ा है। बावजूद इसके अब तक नाले की सफाई नहीं कराई गई है।

प्रदीप यादव

- नगर निगम हर बार नाले की सफाई में कोताही बरतता है। इस बार भी अब तक नाले की सफाई को टीम नहीं आई है। इससे बारिश में जलभराव होगा।

छोटू

- सड़क के किनारे बहने वाले नाले में पानी गंदगी के कारण ऊपर तक हो गया है। यही स्थिति रही तो बारिश में नाले का पानी सड़क पर भरेगा।

बालकृष्ण

- प्री मानसून की बारिश में शहर में जलभराव हो चुका है। बावजूद इसके अब तक नालों की सफाई नहीं कराई गई है। निगम ढीला बना है।

कैलाश बाबू वर्जन

शहर में नालों की सफाई का अभियान लगातार चल रहा है। जिन जगह नाले साफ नहीं हुए हैं, वहां जल्दी सफाई कराई जाएगी। बरसात से पहले सभी नाले साफ होने हैं।

डॉ. अशोक कुमार, नगर स्वास्थ्य अधिकारी

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021