बरेली, जेएनएन। Dengue in Bareilly : जिले में भले ही एक तरफ कोरोना संक्रमण का प्रकोप काफी कम हो गया है, लेकिन डेंगू और मलेरिया के बढ़ते केस अब जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के लिए परेशानी का सबब बने हैं। हैरानी की बात यह है कि देहात से लेकर शहरी क्षेत्र में डेंगू के मरीजों का आंकड़ा अधिक है। हालांकि शहरी क्षेत्र के जिस एरिया में डेंगू के मरीज मिले हैं, वहां नगर निगम की ओर से निरोधात्मक कार्रवाई कराई जा रही है।

डेंगू से ग्रसित 12 नए मरीज मिले :

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार बुधवार को जिले में डेंगू के कुल 63 मरीजों की एलाइजा जांच की गई। इसमें 12 मरीजों में डेंगू वायरस पाजिटिव मिला। जिन मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है उनमें मीरगंज के गांव शिवपुरी, इज्जतनगर के मुड़िया अहमद नगर, पीलीभीत बाईपास रोड, मुंशी नगर, जगतपुर, बाग ब्रिघटान, रेलवे कालोनी, सीबीगंज के लेबर कालोनी, अटामांडा के घाटमपुर, माडल रेलवे कालोनी, राम वाटिका और पीलीभीत बाईपास स्थित बसंत विहार कालोनी के लोग हैं।

शहरी क्षेत्र में 121, देहात में महज 51 मरीज :

स्वास्थ्य महकमे के अफसरों के अनुसार जनवरी माह से जिले में डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए डोर टू डोर सर्वे किया जा रहा है। हालांकि बीते पांच माह से डेंगू और मलेरिया ने तेजी से पांव पसारना शुरू किया। इसी क्रम में जिले भर अब तक कुल 172 मरीज डेंगू से ग्रसित मिले हैं। जिनमें शहरी इलाकों के 121, वहीं ग्रामीण इलाको में 51 मरीज शामिल हैं।

मलेरिया के मरीजों का आंकड़ा 2,222 पहुंचा :

डेंगू के सापेक्ष मलेरिया के केस काफी कम हैं। बुधवार को जिले में मलेरिया की कुल 493 जांचें की गईं, इनमें आठ मरीज मलेरिया से ग्रसित मिले। इसी प्रकार जिले भर में जनवरी से अब तक कुल 2,222 मरीजों में मलेरिया की पुष्टि हो चुकी है।

जिला अस्पताल से छह मरीज किए डिस्चार्ज :

पिछले तीन दिनों से जिला अस्पताल में बने 22 बेड का डेंगू वार्ड फुल हो गए थे। लेकिन बुधवार को एडीएसआइसी डा. सुबोध शर्मा ने वार्ड का निरीक्षण किया। इस दौरान स्टाफ ने बताया कि छह मरीज सिर्फ कमजोरी के चलते डिस्चार्ज होने से इंकार कर रहे हैं। ऐसे में एडीएसआइसी ने मरीजों को बताया कि डेंगू से स्वस्थ होने के बाद भी करीब एक सप्ताह तक शरीर में कमजोरी बनी रहती है। इसलिए घर पर संतुलित खानपान और नियमित दवा लेने पर कमजोरी ठीक हो जाती है।

डेंगू के 12 नए मरीज मिले हैं। हालांकि देहात क्षेत्र की तुलना में शहरी क्षेत्र में डेंगू के मरीज अधिक हैं। लोगों से अपील है कि डेंगू और मलेरिया से बचाव करते रहें। जिन इलाकों में डेंगू के मरीज मिल रहे हैं वहां टीमों की ओर से निरोधात्मक कार्रवाई की जा रही है। डा. बलवीर सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी

 

Edited By: Ravi Mishra