मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बरेली, जेएनएन : निदा खान और फरहत नकवी को धमकियां देकर सुर्खियों में आया ऑल इंडिया मदीना काउंसिलिंग का अध्यक्ष मोईन सिद्दीकी नूरी (चोटीकटवा) मंगलवार को जेल भेज दिया गया। पुलिस ने उसके विरुद्ध समाज में उन्माद फैलाने, धार्मिक भावना भड़काने और धमकियों समेत अन्य धाराएं लगाई हैं। दोपहर को उसे एसीजेएम-पांच सुधा की कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने मोईन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा है। खास बात यह है कि मोईन के बचाव पक्ष में न तो कोई अर्जी कोर्ट में दाखिल हुई न ही कोई वकील पेश हुआ।

यह भी पढ़ें : बेटे के साथ घर लौटते समय पति सड़क पर बोला- तलाक, तलाक...तलाक www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-on-his-way-home-with-his-son-on-the-road-he-soke-tripple-talaq-bareilly-news-19468780.html

पिछले साल जुलाई में निदा खान के विरुद्ध इस्लाम से खारिज करने का फतवा जारी हुआ था। मामला सुर्खियां बना तो मोईन ने भी खुद को चर्चा में होने का रास्ता निकाल लिया। तीसरे दिन उसने निदा खान की चोटी काटने और पत्थर मारकर निकालने का एलान किया। एक पत्र जारी किया। इसमें निदा खान और फरहत नकवी का जिक्र करते हुए लिखा कि इनके विरुद्ध ऐसा करने वाले को 11786 रुपये इनाम दिया जाएगा। इस मामले में निदा खान और फरहत नकवी ने मोईन के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराया। सालभर बाद एक बार सुर्खियों में हैं।

यह भी पढ़ें : तीन तलाक कानून से घटेगा शरिया अदालतों का वजूद : www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-sharia-courts-exist-due-to-three-divorce-laws-bareilly-news-19451789.html

गत दिवस उनका एक कथित वीडियो वायरल हुआ। इसमें वह शिया समुदाय के विरुद्ध अमर्यादित टिप्पणी और फरहत नकवी, निदा खान को तीन दिन में देश से भगाने का दावा करता सुना जा रहा। इसी के विरोध में फरहत नकवी ने रविवार को किला थाने में धरना दिया। दो घंटे तक पुलिस से नोकझोंक हुई। इंस्पेक्टर पर महिलाओं की अनसुनी के आरोप लगाए। डीआइजी के निर्देश पर मामला शांत हुआ। उसी रात फरहत नकवी ने मोईन के एक और मुकदमा दर्ज कराया। सोमवार को किला पुलिस ने मोईन को गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के बाद उसने फरहत नकवी और निदा खान को भी कठघरे में खड़ा किया। कहा कि उन्हीं के कहने पर विवादित बयान देता था।

तीन साल की हो सकती सजा
पुलिस ने मोईन सिद्दीकी नूरी के खिलाफ समाज में उन्माद फैलाने, धार्मिक भावना भड़काने, धमकाने समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है। कानून के जानकारों के मुताबिक यह ऐसी धाराएं हैं, जिसमें तीन साल तक की सजा हो सकती है।

प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट सुनेंगे मामला
मोईन सिद्दीकी नूरी के मामले की सुनवाई प्रथम श्रेणी स्तर के मजिस्ट्रेट सुनेंगे। अब दो सितंबर को अदालत में उनकी पेशी होगी। उनके विरुद्ध दो मामले दर्ज हैं। एक वर्ष 2018 और दूसरा वर्ष 2019 का। कोर्ट ने दोनों मामलों के अलग वारंट जारी किए हैं। यानी दोनों केस अलग-अलग चलेंगे। पुलिस ने दोनों मामलों में उनकी गिरफ्तारी की है।

यह भी पढ़ें : किला थाने में पुलिस के खिलाफ धरने पर बैठ गईं तीन तलाक पीड़िताएंwww.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-three-divorce-victims-sit-on-a-sit-in-protest-against-the-police-at-qila-police-station-bareilly-news-19497216.html

परिवार ने भी किया किनारा
अपनी गलतबयानी से आए दिन समाज में विवाद में रहने वाले मोईन सिद्दीकी के बचाव में परिवार का भी कोई सदस्य सामने नहीं आया है। सूत्रों के मुताबिक परिवार आर्थिक रूप से बहुत ठीक नहीं है। है। मोईन खुद जुगाड़-तुगाड़ से अपनी गुजर बसर करता है।

जेल जाने के डर से रातभर नहीं सोया मोईन
सालभर से भड़काऊ बयान देकर कानून से खेलने वाला मोईन सिद्दीकी नूरी जब पुलिस के हत्थे चढ़ा तो सारी अकड़ चूर-चूर हो गई। जेल जाने के डर से ही रात भर जागता रहा।

निदा खान और फरहत नकवी के खिलाफ गलतबयानी करके सुर्खियों में रहने वाले मोईन को सोमवार को ही पुलिस ने गिरफ्तार किया था। तब उसने हिरासत में ही निदा खान और फरहत नकवी पर आरोपों की झड़ी लगा दी थी। उसे उम्मीद थी कि पुलिस से राहत मिल जाएगी और जमानत पर छूट जाएगा। मगर जिस तरह से उसे लेकर साल भर से पुलिस की किरकिरी हो रही थी। पुलिस उसे बख्शने के मूड में नहीं थी। पुराने मामलों का अध्ययन करने के बाद मोईन के विरुद्ध यह दफाएं लगाई हैं।

यह भी पढ़े : सुरक्षा का अहसास होती ही मुस्लिम महिलाओं में जश्न www.jagran.com/uttar-pradesh/bareilly-city-tripple-talaq-muslim-women-celebrating-as-soon-as-they-were-security-is-realized-bareilly-news-19448625.html

सीओ-तृतीय के यहां पहुंचीं निदा, जांच की मांग उठाई
मोईन के आरोपों के बाद निदा खान मंगलवार को सीओ-तृतीय के यहां पहुंचीं। निदा खान के मुताबिक, मोईन ने गलतबयानी में उनका नाम घसीटा है। पुलिस इसकी जांच कराए। मोईन के ऑडियो वायरल हो चुके हैं। इसमें वह मुझे खत्म करने का दावा करता सुना जा रहा है। उन्होंने कहा कि पुलिस इस पूरे प्रकरण की गंभीरता से जांच करे। ताकि सच सामने आ सके कि मोईन किसके इशारे पर भड़काऊ बयान दे रहा था। दूसरी तरफ मोईन को जेल भेजने जाने पर फरहत नकवी ने कहा कि समाज में नफरत फैलाने वालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई जरूरी है। पुलिस ने मेरी तहरीर पर संज्ञान लिया है। यह अच्छा संदेश है।

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप