जेएनएन, बरेली। कानूनन अपराध घोषित होने व सख्ती के बावजूद ग्रामीण क्षेत्रों में बाल विवाह पर अंकुश नहीं लग पा रहा है। कच्ची उम्र में ही किशोरियों की शादी कराकर उनसे उनका बचपन छीन लिया जा रहा है। ताजा मामला शीशगढ कस्बा से सामने आया है। जहां एक नाबालिग किशोरी की शादी दो गुने उम्र के व्यक्ति से कराई जा रही थी। इसी बीच किसी ने बाल विवाह होने की सूचना पुलिस को दे दी। पुलिस ने मौके पर छापा मारकर युवक को हिरासत में ले लिया। पुलिस मामले की जाच कर रही है।

कस्बा निवासी 10 साल की किशोरी के पिता का सात महीने पहले स्वर्गवास हो गया। वह मा और दादा के साथ रहती है। गुरुवार को शाही क्षेत्र के गाव आमौर के 25 वर्षीय युवक के साथ उसकी शादी कराने की पूरी तैयारी थी। जिस व्यक्ति से नाबालिग की शादी होनी थी वह पहले से शादीशुदा है। उसकी पत्‍‌नी की कई वर्ष पहले मौत हो चुकी है। युवक अपने परिजनों के साथ किशोरी के घर पहुंचा। वहीं, किशोरी के परिजन भी बाजार से कपड़ा, मिठाई आदि सामान खरीद कर लाए थे। नाबालिग की शादी होने की खबर मुहल्ले वालों को पता चली तो सभी हैरान रह गए। क्योंकि पढ़ने-खेलने की उम्र में परिजन उसकी जिंदगी बर्बाद करने जा रहे थे। इस बीच किसी ने पुलिस में शिकायत कर दी। सूचना मिलने पर पुलिस ने मकान में छापा मारा तो शादी के डर से किशोरी चारपाई के नीचे छिपी मिली। पुलिस ने कथित दूल्हे को हिरासत में ले लिया। वहीं, नाबालिग के दादा ने पुलिस को बताया वह केवल नातिन का रिश्ता तय कर रहे थे। उसकी शादी बाद होनी थी। हालांकि, युवक के परिजन कुछ बोलने को तैयार नहीं हुए।

उधर, मुहल्ले वालों ने पुलिस को जानकारी दी कि किशोरी की मा और दादा जबरन उसकी शादी कर रहे थे जबकि नाबालिग इसका विरोध कर रही थी। किशोरी का जीवन खराब होने से बचाने के लिए मजबूरन उन्हें शिकायत करनी पड़ी। एसओ ने बताया बाल विवाह कराए जाने की सूचना मिली थी। जिस पर मौके पर जाकर जांच की गई। दूल्हा बताए जाने वाले व्यक्ति को हिरासत में ले लिया है। यदि बाल विवाह होने की बात सही पाई गई तो सख्त कार्रवाई होगी।

Posted By: Jagran