बरेली (जेएनएन)। एक गांव में आठ साल के दूल्हे की सात साल की दुल्हन से शादी कर दी गई। गुड्डा-गुड़िया से खेलने की उम्र में उन्हें सात फेरों के बंधन में बांध दिया गया। जबकि उन्हें यह नहीं पता कि शादी का मतलब क्या होता है। खास बात है कि सूचना पर वूमेन हेल्प लाइन की टीम पुलिस के साथ पहुंची तो दूल्हा-दुल्हन बदलकर परिवार वालों ने उन्हें चकमा दे दिया। बाद में भोर होने से पहले ही बरात विदा कर वधू पक्ष के पुरूष घर छोड़कर फरार हो गए। पुलिस और वूमेन हेल्प लाइन की टीम उनकी तलाश में जुटी है।

जिला बरेली के थाना नवाबगंज क्षेत्र के एक गांव निवासी व्यक्ति ने अपने आठ वर्षीय बेटे की शादी शाहजहांपुर जिले के निगोही क्षेत्र के एक गांव निवासी व्यक्ति की सात वर्षीय बेटी के साथ शादी से तय की थी। गुरुवार को शादी होनी थी। तय समय पर शाम को बरात पहुंची। इस बीच किसी ग्रामीण ने वूमेन हेल्प लाइन से बाल-विवाह होने की शिकायत कर दी। शिकायत मिलते की वूमेन हेल्प लाइन सक्रिय हो गई और पुलिस के साथ मौके पर पहुंच गई। इस पर वधू पक्ष ने पुलिस को चकमा देने के लिए अपनी शादीशुदा बेटी को उसके पति के साथ मंडप पर बैठा दिया। विवाह मंडप पर बालिगों को देखकर पुलिस और वूमेन हेल्प लाइन की टीम जांच करके वापस हो गई। इसके बाद परिजनों ने नाबालिगों के फेरे डलवाए और बरात को भोर होने से पहले विदा कर दिया। दूल्हा व दुल्हन नाबालिग हुए तो होगी कार्रवाई : मामले की जानकारी हुई थी। इसके बाद पुलिस को सूचना दी। एसओ ने बताया कि दोनों बालिग है। गांव के प्रधान का भी यही कथन है। फिर भी मामले की दोबारा जांच कराई जाएगी। यदि दूल्हा और दुल्हन नाबालिग हुए तो दोनों पक्षों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई जाएगी। बाल विवाह हरगिज नहीं होने दिया जाएगा।

-प्रज्ञा सिंह, काउंसलर, वूमेन हेल्प लाइन

क्या कहती है पुलिस : बरेली पुलिस की सूचना पर मामला संज्ञान में आया था। वूमेन हेल्प लाइन की टीम के साथ मौके पर पहुंचकर जांच की गई। दूल्हा-दुल्हन बालिग मिले। दूल्हा-दुल्हन बदलने के बारे में कोई जानकारी नहीं है। - सुनील शर्मा, थानाध्यक्ष

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran