बरेली, जेएनएन। शाहजहांपुर में भारतीय किसान यूनियन महिला प्रकोष्ठ की तहसील अध्यक्ष के निर्माणाधीन मकान को लेकर गुरुवार रात विवाद हो गया। दूसरे पक्ष ने पथराव के साथ ही जेसीबी की मदद से निर्माण भी गिरवा दिया। हमले में भाकियू नेता घायल भी हो गईं। उन्होंने नकदी व जेवर की लूट का भी आरोप लगाया। सूचना के करीब एक घंटे बाद पुलिस पहुंची, लेकिन तब तक आरोपित भाग चुके थे।

नगर में मुहल्ला डगरा में रेलवे फाटक के पास भारतीय किसान यूनियन की महिला प्रकोष्ठ की तहसील अध्यक्ष मीरा देवी का मकान है। उनके घर के सामने खाली जगह पड़ी है। जिसके आगे दूसरे पक्ष की चार वर्ष से दुकानें बन रही हैं। दुकान निर्माण व जगह को लेकर 2016 में दोनों पक्षों में विवाद हुआ था। मीरा देवी ने उस जगह पर स्टे कराया था। कुछ दिन से मीरा देवी दुकानों के पीछे खाली पड़ी जगह पर अपना मकान बनवा रही थीं। जिस पर गुरुवार रात लगभग 11 बजे दूसरे पक्ष के लगभग 50 लोग जेसीबी लेकर वहां पहुंच गए। आरोप है कि निर्माणाधीन मकान को गिराने लगे।

जब मीरा देवी ने अपने घर की छत से विरोध किया तो उन लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। जिससे उनके सिर में चोट लग गई। मीरा देवी ने बताया कि उन्होंने पुलिस को फोन किया, लेकिन लगभग एक घंटे बाद फोर्स पहुंचा। पुलिस ने जेसीबी को अपने कब्जे में ले लिया। मीरा देवी ने शुक्रवार को जिला मुख्यालय जाकर एसपी को तहरीर दी। उन्होंने आरोपितों पर घर में घुसकर तीन लाख रुपये की नकदी व पांच लाख के जेवर लूट का भी आरोप लगाया। हल्का लेखपाल उग्रसेन सिंह ने बताया कि इस विवादित जगह पर 2016 में मीरा देवी ने सिविल कोर्ट से स्टे लिया था। उसके बाद से यहां कोई पक्ष निर्माण नहीं कर सकता है।

मामले की जानकारी मिली थी। जेसीबी पकड़ ली गई है। इस मामले में जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। - प्रमोद कुमार, एसओ

Edited By: Ravi Mishra