बरेली, जेएनएन। Bharat Bandh Today : किसानों द्वारा घोषित किए गए भारत बंद का असर बरेली मंडल में देखने को नहीं मिला। बदायूं , पीलीभीत शाहजहांपुर में जहां बाजार सामान्य दिनों की तरह ही खुला। वहीं एहतियात के तौर पद भाकियू नेताओं के आवास पर फोर्स तैनात रहा। हालांकि ये स्थिति प्रदेश के अन्य जिलों में भी देखने को मिला।

बदायूं में आवास पर नजर बंद रहे भाकियू नेता

संयुक्त किसान मोर्चा के भारत बंद का जिले में अभी तक कोई असर नहीं दिखाई दिया है। भारतीय किसान यूनियन के नेताओं को उनके घरों पर पुलिस ने नजरबंद किया है। बाजार सामान्य ढंग से खुले हुए हैं। प्रमुख स्थानों पर पुलिस और प्रशासनिक अधिकारी एहतियात बरत रहे हैं। मंडलीय नेता राजेश कुमार सक्सेना को चित्रांश नगर स्थित उनके आवास पर पुलिस ने रोक रखा है। वरिष्ठ नेता रामाशंकर भारद्वाज को रियोनाई गांव, झांझन सिंह को उघैती, जबकि खंडुआ में अमरपाल सिंह के आवास पर पुलिस का पहरा है। राजेश कुमार सक्सेना ने इसे सरकार की हिटलरशाही करार देते हुए कहा कि किसानों के खिलाफ दमनात्मक नीति अपनाई जा रही है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

पीलीभीत में खुली दुकानें, देहात में दिखा मिला जुला असर

तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संयुक्त मोर्चा के भारत बंद का जनपद में मिलाजुला असर देखने को मिल रहा है। पीलीभीत शहर सहित कई स्थानों पर सुबह से ही दुकानें खुलने लगीं है, वहीं देहात के बाजारों में बंद का असर है। जिले भर में सभी प्रमुख स्थानों पर पुलिस फोर्स तैनात है। फिलहाल जनपद में स्थिति सामान्य है। शहर में रोजाना की भांति बाजारों में दुकानें खुलने लगी हैं। इसके अलावा बीसलपुर और कलीनगर के बाजार में भी दुकानें खुल रही हैं।

न्यूरिया कस्बे में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं की टोली बाजार में घूम रही है। गजरौला में ज्यादातर दुकानें बंद हैं, वहां भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है। पूरनपुर नगर में आज साप्ताहिक बंदी दिवस है, लेकिन क्षेत्र में दोपहर में किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं के हाइवे पर चक्काजाम किए जाने की आशंका के मद्देनजर फोर्स तैनात है। गौरतलब है कि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत तथा भारतीय किसान यूनियन चढ़ूनी गुट के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुरमान सिंह ने कुछ दिन पहले ही जिले का दौरा किया है। 

Edited By: Ravi Mishra