बरेली [हिमांशु मिश्र] : साइबर सुरक्षा के लिए अब भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर (बीएआरसी) को दूसरों पर आश्रित नहीं रहना पड़ेगा। बरेली के अक्षत और उनकी टीम ने भाभा के लिए विशेष साइबर सुरक्षा तकनीक तैयार की है। इसके लिए उन्हें आगामी 30 अक्टूबर को यंग इंजीनियर अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा।

बिहारीपुर के अक्षत कक्कड़ और उनकी टीम ने सिक्योर नेटवर्क एक्सेस सिस्टम (एसएनएएस) तैयार किया है। पिता गोपाल विनोदी शहर के जाने-माने कवि हैं। अक्षत बताते हैं कि यह तकनीक एटॉमिक सेंटर की हर गतिविधि को पूरी तरह से साइबर सुरक्षा प्रदान करने में सक्षम है। अभी तक सेंटर को इसके लिए दूसरों से मदद लेनी पड़ती थी। अक्षत को इस उपलब्धि के लिए भाभा के पूर्व निदेशक डॉ. एएन प्रसाद की ओर से आगामी 30 अक्टूबर को यंग इंजीनियर अवॉर्ड से सम्मानित किया जाएगा।

कोशिश करने वाले भी पकड़े जाएंगे

अक्षत बताते हैं कि सिक्योर नेटवर्क एक्सेस सिस्टम के जरिए हम भाभा के सभी सिस्टम को सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। अगर कोई बाहर या अंदर से भी सुरक्षा में सेंध की कोशिश करेगा तो वह पकड़ में आ जाएगा। सेंटर के किसी भी सिस्टम से कोई सूचनाएं बाहर भी नहीं जा सकती हैं। इसके पहले अक्षत को भाभा की तरफ से जेनेवा में हुई गॉड पार्टिकल की खोज के लिए भी भेजा गया था।

पोखरण टेस्ट के बाद अमेरिका ने मदद से किया था इन्कार

1998 में पोखरण न्यूक्लियर टेस्ट के बाद अमेरिका ने भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर को किसी भी तरह की मदद देने से इन्कार कर दिया था। जब कभी मदद देने के लिए स्वीकृति भी दी तो उन्हें यह बताना पड़ता था कि हम उनकी तकनीक का कहां और कैसे प्रयोग करेंगे। इसलिए भाभा के विशेषज्ञों की टीम ने हर तरह की तकनीक पर खुद से काम करना शुरू कर दिया।

इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद ही मिल गई थी नौकरी

अक्षत ने 2005 में श्री राम मूर्ति स्मारक इंजीनियङ्क्षरग कॉलेज से इलेक्ट्रॉनिक्स एंड कम्यूनिकेशन ब्रांच में बीटेक की पढ़ाई की है। इसके बाद उन्हें भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर में साइंटिफिक ऑफिसर पद पर नौकरी मिल गई थी। तब से लेकर वह भाभा के लिए कई तकनीक तैयार कर चुके हैं।

दूसरे देशों से भी तकनीक लेना खतरे से खाली नहीं

अक्षत बताते हैं कि आमतौर पर हम अन्य देशों से कई तकनीक लेते हैं लेकिन यह खतरे से खाली नहीं होता। जब भी दूसरा देश कोई तकनीक देता है तो मजबूरन हम उसपर आश्रित हो जाते हैं।  

Posted By: Abhishek Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस