बरेली, जेएनएन। Basic Education : परिषदीय प्राथमिक विद्यालयों के शिक्षकों को भी अब परीक्षा पास करनी होगी। शिक्षा विभाग द्वारा निर्धारित किए गए पैरामीटर्स पर उन्हें ज्यादा से ज्यादा नंबर जुटाने होंगे। परीक्षा में अच्छे नंबर ही भविष्य में उनकी तरक्की और इंक्रीमेंट तय करेंगे। विभाग ने यह व्यवस्था बेसिक शिक्षा की गुणवत्ता व प्रबंधन को बेहतर करने के लिए की है। इस परीक्षा में प्रधानाध्यापकों से लेकर सहायक अध्यापकों तक सभी को नौ पैरामीटर्स में ज्यादा से ज्यादा नंबर जुटाने होंगे।

परीक्षा का तीन पड़ावों पर मूल्यांकन किया जाएगा। सबसे पहले शिक्षकों को स्वमूल्यांकन करना होगा। दूसरे स्तर पर प्रतिवेदक अधिकारी यानी खंड शिक्षा अधिकारी उनके पैरामीटर्स को चेक करेंगे। दूसरे स्तर से मूल्यांकन आख्या दाखिल होने के बाद तीसरा अंतिम मूल्यांकन बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा किया जाएगा।

इस तरह तैयार होगा शिक्षकों का रिपोर्ट कार्ड

विभाग के मुताबिक विद्यालय में सभी 14 अवस्थापन सुविधाएं होने पर शिक्षक को 10 अंक मिलेंगे। जबकि 60 से 80 फीसद तक छात्र उपस्थिति पर पांच अंक मिलेंगे। विद्यालय में छात्रों की 80 फीसद से अधिक उपस्थिति होने पर 10 अंक मिलेंगे। डिजिटल शिक्षा सामग्री के नियमित प्रयोग करने पर 10 अंक मिलेंगे। इसी प्रकार अन्य कैटेगरी में शिक्षकों को अंक मिलेंगे।

बेसिक शिक्षा की गुणवत्ता और स्कूलों में छात्रों की उपस्थिति में सुधार के लिए यह पैरामीटर्स बनाए गए हैं। शिक्षकों की मार्किंग करके उन्हें बेहतर कार्य प्रदर्शन के लिए प्रेरित किया जाएगा। - विनय कुमार, बीएसए 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप