बरेली, जेएनएन। Excise State Minister Nitin Agarwal Statement : सहारनपुर टपरी डिस्टलरी प्रकरण में आबकारी राज्यमंत्री नितिन अग्रवाल के बयान के बाद बरेली के अफसर सकते में है।सौ करोड़ की टैक्स चोरी मामले में अब बरेली के आबकारी विभाग में खलबली मची हुई है।दरअसल कुछ दिनों पहले बरेली आए आबकारी राज्यमंत्री नितिन अग्रवाल ने इस मामले में बड़ा बयान दिया था।उन्होंने शराब माफिया सिंडिकेट से ताल्लुक रखने वाले अफसरों को जेल भेजने की बात कहीं थी। उन्होंने कहा था कि माफिया को संरक्षण देने वाले अफसरों को बख्शा नही जाएगा।

बरेली डीएम भी लगा चुके अफसरों की क्लास

शराब माफियाओं से आबकारी अफसरों की नजदीकियां किसी से छिपी नहीं है।इस मामले में बरेली डीएम भी आबकारी विभाग के कर्मचारियों और अफसरों की क्लास लगा चुके है।उन्होंने यह क्लास तब लगाई थी जब आबकारी विभाग द्वारा शराब माफियाओं के संबंधियों के बार लाइसेंस रिन्युअल किए जाने को लेकर पैरवी कर रहे थे।जिसके बाद जब डीएम ने अफसरों से सवाल पूछना शुरू किए तो अफसर बगले झांकने लगे थे।

मामले मेें एसआइटी कर रही जांच, फंसे कई अफसर

इस प्रकरण में एसआईटी जांच चल रही है।जिनमें विभाग के कई अफसरों की संलिप्तता पाई गई है।इस मामले में एसआईटी ने कार्रवाई करते हुए सभी के खिलाफ चार्जशीट दाखिल कर रखी है।मामले में आरोपित भी जेल गए है।इस मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर पुलिस ने काफी दबाव डाला था।जिसके बाद आरोपित शराब माफियाओं को पुलिस ने पकड़ लिया था।मामले में शराब माफिया से जुड़े साथियों ने कई राज खोले थे।जिनसे पुलिस को कई अहम सुराग भी मिले थे।

सवालों में घिरे अफसर, आबकारी मंत्री नहीं दे पाए थे जवाब

आबकारी मंत्री के सामने उठे सवालों में आबकारी विभाग के अफसर घिर गए थे।जिसमें अफसरों पर प्रकरण से जुडे केस पर अपराधियों के सरक्षण, उनकी गाड़ियों का प्रयोग करना, उनके फ्लैटों का उपयोग करने संबंधी कई सवाल उठे।जिनके जवाब ना तो अफसर दे पाए और ना ही मंत्री के पास थे।हालांकि मंत्री नितिन अग्रवाल ने इस बात को भी स्पष्ट किया कि यह बाते उनकी जानकारी में नहीं है।इस पूरे मामले की जांच कराने की बात भी उन्होंने कही।इसके साथ हिस्ट्रीशीटर को शराब लाइसेंस जारी करने के मामले में उन्होंने कहा है कि अगर ऐसा कोई मामला है तो पूरे प्रकरण की रिपोर्ट तलब की जाएगी।जिसके बाद विभाग में खलबली मची हुई है। 

Edited By: Ravi Mishra