बरेली, जागरण संवाददाता: सीबीगंज की ओर से आने वाली 33 केवी बिजली लाइन का तार टूटने की वजह से मंगलवार रात से बुधवार सुबह तक करीब छह घंटे से ज्यादा बिजली आपूर्ति बाधित रही। इससे उपभोक्ताओं को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा। उपभोक्ताओं ने बिजली विभाग के अधिकारियों को काल किया तो संतोषजनक जानकारी नहीं मिल सकी। मुख्यमंत्री के शहर आगमन से पहले सुभाषनगर और मढ़ीनाथ के करीब 25 हजार उपभोक्ताओं की रात काली हो गई।

शहर में निर्बाध बिजली कटौती का दावा करने वाला बिजली विभाग ट्रिपिंग पर अब तक नियंत्रण नहीं कर सका, जबकि फाल्ट होने पर तो स्थिति नियंत्रण से बाहर हो जाती है। सीबीगंज से आने वाली 33 केवी लाइन का तार मंगलवार रात करीब 12 बजे के बाद टूट गया।

मामले की जानकारी होने के बाद बिजली कर्मियों ने कांबिंग की। इसके बाद तार जोड़कर बिजली आपूर्ति बहाल नहीं हुई। इसके बाद दोबारा जांच की तो पता चला एक स्थान पर इंसुलेटर फुंक गया था, जबकि एक अन्य स्थान पर फाल्ट था। सारे फाल्ट सही करके बुधवार को सुबह करीब सात बजे के बाद आपूर्ति को बहाल किया जा सका।

संविदा बिजली कर्मियों की हड़ताल

एसडीओ सुभाषनगर महेंद्र सिंह ने बताया कि 33 केवी की लाइन में फाल्ट होने की सूचना के बाद मंगलवार को रात भर पूरी टीम उसे सही करने में लगी रही। इसके बाद सुबह बिजली आपूर्ति को सुचारू कर दिया गया। एक लाइन खराब होने पर संविदा बिजली कर्मियों की हड़ताल की वजह से पूरा नहीं हो सका। इसके बावजूद बिजली आपूर्ति दूसरी लाइन से बहाल की गई। इसके बाद दूसरी लाइन में भी फाल्ट होने से आपूर्ति व्यवस्था बिगड़ गई।

परसाखेड़ा क्षेत्र में टूटा तार तो मढ़ी में टेढ़ा हुआ खंभा

औद्योगिक क्षेत्र परसाखेड़ा के पास 33 केवी लाइन का तार टूटा था, जबकि मढ़ी के पास खंभा टेड़ा हो गया था। खंभे को सही कराने में और टूटा तार जोड़ने में बिजली कर्मियों को सबसे ज्यादा परेशानी का सामना करना पड़ा।

Edited By: MOHAMMAD AQIB KHAN

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट