जेएनएन, बरेली : आयुष्मान जन आरोग्य योजना के लाभार्थियों को निश्शुल्क इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती और डिस्चार्ज होते समय उनके अंगूठे का निशान लिया जाएगा, जो उनकी बायोमीटिक पहचान को प्रमाणित करेगा। जिले में भी यह व्यवस्था शुरू हो गई है। इसके साथ ही जिला अस्पताल परिसर स्थित आयुष्मान कार्यालय में पूछताछ बढ़ गई है।

आयुष्मान योजना के तहत जिले में 2.34 लाख परिवार पात्र हैं। इनमें से अब तक करीब 19 हजार लोगों को मुफ्त चिकित्सा सुविधा का लाभ दिया जा चुका है। करीब 1.34 लाख लोगों के गोल्डन कार्ड भी बन चुके हैं। जिले में 89 निजी सहित कुल 101 अस्पतालों को सूचीबद्ध किया जा चुका है।

सूचीबद्ध अस्पतालों में भर्ती करने के लिए अब तक पात्र मरीज का गोल्डन कार्ड दिखाना जरूरी था। बीते कुछ समय से फर्जीवाड़े की शिकायत पर सरकार ने नई व्यवस्था शुरू की है। अब मरीज को भर्ती करने के लिए गोल्डन कार्ड के साथ ही उनका बॉयोमीटिक पहचान भी पुष्ट की जाएगी। अंगूठे का निशान लेने के बाद ही उनको अस्पताल में भर्ती व डिस्चार्ज किया जाएगा।

आयुष्मान योजना के पात्रों को अस्पताल में भर्ती और डिस्चार्ज करने के समय अंगूठे का निशान अनिवार्य होगा। इससे उनकी बायोमीटिक पहचान प्रमाणित होगी। इससे जुड़ी जानकारियां आयुष्मान केंद्र से मांगी जा रही हैं।

- डॉ. विनीत शुक्ला, सीएमओ 

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप