जेएनएन, बरेली : देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिवस 14 नवंबर यानी बाल दिवस के चलते यूं तो हर साल सुर्खियों में रहा है। मगर अब इसके इतिहास में एक और पन्ना दर्ज हो गया है। वो है नौ नवंबर। यह वह तारीख है जिस दिन देश के सबसे बड़े मुद्दे अयोध्या ववाद का अंत हुआ। यह अब सालों साल इस ऐतिहासिक फैसले के लिए ही जानी जाएगी। शहर के राजेंद्रनगर में रहने वाले अश्वनी आनंद कहते हैं कि इससे पहले नवंबर के इतिहास के साथ 2016 में भी एक नया पन्ना जुड़ा था। जब आठ नवंबर की रात प्रधानमंत्री ने नोटबंदी का एलान किया था। वह भी दिन भी यादगार बन गया।

 सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में 40 दिनों तक मैराथन सुनवाई के बाद 16 अक्टूबर को फैसला सुरक्षित कर लिया था। फैसला सुरक्षित होने के बाद अनुमान लगाया जा रहा था कि चीफ जस्टिस अपने सेवानिवृत्त होने से पहले इस फैसले को सुनाएंगे। व्यापारी शक्ति सिंह बोले, अधिकतर लोग 11 नवंबर के बाद फैसला आने का अनुमान लगा रहे थे, लेकिन शुक्रवार रात अचानक फैसला सुनाए जाने का निर्णय लिया गया। यह दिन इतिहास में दर्ज हो गया।

 नवंबर माह की प्रमुख तारीख: अब तक नवंबर माह के इतिहास में नोटबंदी (08 नवंबर), पूर्व राष्ट्रपति मौलाना अबुल कलाम आजाद के जन्मदिवस (11 नवंबर), बाल दिवस (14 नवंबर), विश्व मधुमेह दिवस (14 नवंबर), शहीद दिवस (17 नवंबर), लाला लाजपत राय बलिदान दिवस (17 नवंबर), इंदिरा गांधी की जयंती (19 नवंबर), रानी लक्ष्मीबाई के जन्मदिवस (19 नवंबर) व राष्ट्रीय संविधान दिवस (26 नवंबर) आदि महत्वपूर्ण तारीख

दर्ज थी। इस कड़ी में अब नौ नवंबर की तारीख भी जुड़ गई है।  

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप