बरेली, जेएनएन : मंगलवार को जंक्शन पर नो पार्किंग जोन में खड़े चार टेंपो को आरपीएफ ने सीज कर चालकों को गिरफ्तार कर लिया। उनको मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया। इससे नाराज यूनियन के पदाधिकारियों ने गुरुवार दोपहर हड़ताल कर दी। जंक्शन के मुख्य द्वार पर आरपीएफ के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया।

आरपीएफ निरीक्षक विपिन कुमार शिशौदिया ने यूनियन के पदाधिकारियों से वार्ता की कोशिश की। उनके द्वारा वीडियो बनवाए जाने पर सभी धरने पर बैठ गए। इस सबका का खामियाजा मुसाफिरों को उठाना पड़ा क्योंकि उन्हें जंक्शन प्रांगण पर ऑटो-टेंपो या ई-रिक्शा नहीं मिला। देर शाम एक बार फिर आरपीएफ निरीक्षक ने यूनियन के पदाधिकारियों के साथ बैठक की।

आटो रिक्शा टैंपो चालक वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव कृष्ण पाल यादव ने पहले की तरह यात्री निकलने का केवल एक मार्ग होने, शेष निकासी के मार्गो को बंद करने की मांग की। साथ ही आरपीएफ निरीक्षक से प्रीपेड बूथ व आटो चालकों के लिए शौचालय बनवाने, गिरफ्तार लोगों से लिए गए चार हजार रुपयों को वापस कराने की मांग की।

आरपीएफ निरीक्षक विपिन कुमार शिशौदिया ने बताया कि आटो यूनियन के पदाधिकारियों को उनकी मांगे डीआरएम के पास भेजने की बात कही गई है।

किसी भी आटो चालक को गलत तरीके से गिरफ्तार नहीं किया गया है। वहीं, रात को ऑटो चालकों की मांगें मान ली गईं, जिसके बाद हड़ताल खत्म कर दी गई।

 

Posted By: Ravi Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस