जेएनएन, पीलीभीत : शम्सी परिवार का लाडला अनीसउद्दीन उर्फ अनस ने आखिर दुनिया को अलविदा करने का फैसला क्यों लिया? यह सवाल हर शख्स के जेहन में कौंध रहा है। लेकिन यह तय है कि अनस ने यह फैसला लेने के लिए अपना दिल बेहद मजबूत कर लिया था। अनस सोशल मीडिया पर सक्रिय था। मंगलवार पूर्वाह्न ग्यारह बजकर 54 मिनट पर वाट्सएप पर उसने स्टेट्स लगाया। इसमें अंग्रेजी भाषा में लिखा- 'आइ एम ग्लेड टू गो यानी मुझे जाने की खुशी है।

वाट्सअप पर एक चित्र बनाकर लगाया

इसके अलावा वाट्सअप पर एक चित्र बनाकर डाला। इसमें एक विशाल पेड़ पर फंदे में लटकी मछली को दिखाया गया है। सोशल मीडिया पर अनस इन दोनों पोस्ट के जरिये क्या संदेश देना चाहा था, यह तो पता नहीं। पर उसके बयां करने के अंदाज से तो आत्महत्या के फैसले की ओर संकेत मिल रहे हैं। अनस की मौत के बाद उसके दोस्तों ने ही सोशल मीडिया पर अनस के स्टेट्स व पोस्ट की जानकारी लोगों से शेयर की है।

पिता बोले- फूल सा बच्चा मेरा... चला गया

बुधवार दोपहर घर के बाहर पड़ी कुर्सियों पर रिश्तेदारों के साथ अनस के पिता समीउद्दीन शम्सी गुमसुम बैठे हुए थे। उनसे अनस की मौत की वजह जानने का प्रयास किया गया तो जवान बेटे की अकाल मौत का गम अचानक उनकी आंखों से छलकने लगा। बताया कि पिछले गुरुवार को अलीगढ़ जाते समय अनस ने कहा था कि कुछ डॉक्यूमेंट तैयार कराने हैं, वह बीएड करने भी बात कह रहा था। उन्होंने अनस पर किसी तरह का दबाव होने की बात से साफ इन्कार किया। यह बताते समय वह बुरी तरह फफककर कहने लगे कि फूल सा बच्चा मेरा ... चला गया।  

Posted By: Abhishek Pandey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप