बरेली, जेएनएन। जिला महिला अस्पताल में नवजात की गर्भ में मौत होने का मामला तूल पकड़ गया। इसके बाद एडी हेल्थ डॉ.राकेश दुबे ने सीएमएस को पूरे प्रकरण की जांच के आदेश दिए हैैं। साथ ही हिदायत दी कि चिकित्सक किसी के इलाज में लापरवाही न बरतें।

दरअसल, मोहनपुर नकटिया निवासी गर्भवती पूजा प्रसव के लिए बीती 19 मई को जिला महिला अस्पताल में भर्ती हुई थी। परिजनों का आरोप है कि शनिवार तक डॉक्टरों ने प्रसव नहीं किया। जब हंगामा मचाया तो ऑपरेशन हुआ था, जिसके बाद बच्चा मरा हुआ था। इस पर गुस्साए परिजनों ने हंगामा शुरू किया था। परिजनों का आरोप था कि पूजा 19 मई को भर्ती हुई थी।

इसके बाद भी चिकित्सकों ने उसका उपचार शुरू नहीं किया गया। उसे कुछ चेकअप करने के बाद कोरोना वार्ड में भर्ती करा दिया। उसका सैंपल लिया गया और कोरोना की रिपोर्ट आने का इंतजार किया जाने लगा। दो दिन पहले चिकित्सकों ने अल्ट्रासाउंड किया तो भी बच्चे में हलचल नहीं थी। बावजूद इसके ऑपरेशन नहीं किया। कोरोना रिपोर्ट के इंतजार में दो दिन तक गर्भ में बच्चा मरा पड़ा रहा।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस