बरेली (जेएनएन)। गाजियाबाद में शुक्रवार की रात सड़क हादसे में मरने वाले सात लोगों में पांच लोग भोजीपुरा के धौराटाडा के एक ही परिवार के थे। देर रात गाव में हादसे की सूचना पहुंची तो मातम पसर गया। परिवार वाले सूचना मिलते ही गाजियाबाद के लिए रवाना हो गए। मृतकों में नन्हेलाल, मधु रस्तोगी, रीना रस्तोगी, उसकी बेटी अंशिका, रितु रस्तोगी शामिल हैं। इनके दिल्ली के रिश्तेदार के दो बच्चों की भी मौत हो गई।

धौराटाडा मुहल्ला गढ़ी बाग नं. 1 निवासी रामप्रताप पाच भाई थे। रामप्रताप का पूर्व में ही निधन हो चुका है। भाई नन्हेलाल, वेदराम और पप्पू रस्तोगी 15 साल पहले गाजियाबाद जाकर बस गए। छोटे भाई इंद्रप्रताप आठ साल पहले परिवार के साथ रुद्रपुर चले गए। शुक्रवार को गाजियाबाद में रहने वाले भाई नन्हेलाल के बेटे रवि की शादी थी। उसी मे बरेली से यह लोग शामिल होने के लिए गए थे। समारोह वाले दिन नन्हेलाल परिवार की महिलाओं व बच्चों के साथ एक कार में सवार होकर विवाहस्थल जाने के लिए निकले थे।

बता दें कि गाजियाबाद के विजयनगर इलाके में बहरामपुर से बारातियों को लेकर खोड़ा जा रही कार (टाटा सूमो) नाले में जा गिरी। सीओ सिटी मनीषा सिंह के अनुसार हादसे में चार महिला, एक बच्चे समेत सात लोगों की मौत हो गई। छह अन्य घायलों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

ऑटो मोबाइल विशेषज्ञ वैभव सिंहल ने बताया कि जब कार का हैंडब्रेक लगाया जाता है तो उसके चारों पहिये जाम हो जाते हैं। ऐसे में कार आगे-पीछे नहीं होती लेकिन ढलान में अचानक हैंडब्रेक हटाने से कार या कोई भी वाहन फ्री हो जाता है और तेजी से आगे-पीछे भागता है। इस लिए जब कार का इंजन बंद हो तब हैंडब्रेक के साथ हमेशा कार का गियर लगाकर खड़ी करनी चाहिए। खासकर जब कार ढलान पर खड़ी हो तो गियर जरूर लगाना चाहिए। इसके साथ ही जब कार को शुरू करना हो तो पहले कार का क्लिच दबाकर फुट ब्रेक लेने चाहिए और इसके बाद कार स्टार्ट होने पर आगे या पीछे जैसे भी कार को लेकर जाना हो के गियर डालकर ही हैंडब्रेक हटाने चाहिए। अगर विजयनगर में भी चालक ने हैंडब्रेक के साथ गियर में कार को रखा होता तो यह हादसा नहीं होता। कार खड़ी करते समय यह बरतें सावधानी - कोशिश करें कि कार अथवा अन्य चार पहिया वाहन का ढलान पर खड़ा न करें - इग्निशियन ऑफ करने के बाद हैंडब्रेक के साथ उसका कोई भी गियर लगा दें - कार को कभी भी स्टार्ट खड़ा नहीं करें, यदि कार स्टार्ट हो तो उसे बंद किए बिना बाहर न निकलें - याद रखे की यदि हैंडब्रेक लगाने के बाद कार ढलान पर है तो बच्चे को उसमें अकेला न छोड़ें - कार यदि आगे की ढलान पर खड़ी है तो पिछला गियर और यदि पीछे की ढलान पर खड़ी है तो आगे का गियर लगाएं - हो सके तो किसी भी सूरत में बच्चे को कार में अकेला न छोड़ें - यदि कोई बच्चा कार में बैठा है तो उसका इग्निशियन कतई ऑन करके न जाएं कैसे हुआ हादसा

नन्हेलाल के बेटे रवि की बारात खोड़ा जा रही थी। बारातियों को ले जा रहे सभी वाहन एनएच-24 पर सड़क किनारे खड़े थे। इन्हीं में से एक कार का चालक किसी काम से नीचे उतरा। तभी कार अपने आप पीछे जाने लगी। बताया जा रहा है कि बच्चे ने कार का हैंड ब्रेक हटा दिया था। जिस वजह से कार पीछे की तरफ जाने लगी। जब तक ड्राइवर ब्रेक लगाता तब तक गाड़ी नाले में जा गिरी। कार में 12 लोग मौजूद थे। लोगों ने गाड़ी में फंसे बारातियों को किसी तरह निकाला। घायलों को पास के स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहा एक बच्चे की मौत हो गई। खुशी मातम में बदली

विजयनगर इलाके में हुई इस घटना की जानकारी होने के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। शादी की खुशिया मातम में बदल गई। अस्पताल में भर्ती लोगों की मदद के लिए भी कई बराती पहुंचे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप