बरेली, जेएनएन। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के बाद कोरोना संक्रमण का खतरा लगातार शिक्षकों पर मंड़रा रहा है। संक्रमण की चपेट में आकर अब तक जिले में शिक्षा के 14 गुरुजनों को कोरोना लील गया है। कई शिक्षक अभी भी कोरोना संक्रमण से जूझ रहे हैं। स्थिति को देखते हुए प्रशासन चिंतित है। प्राथमिक शिक्षक संघ ने प्रदेशभर में कोरोना संक्रमण से मरे शिक्षकों की सूची जारी की है, जिसमें बदायूं के शिक्षकों के भी नाम शामिल हैं।

बदायूं जिले में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है। महामारी की चपेट से शिक्षक भी नहीं बच सके हैं। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ ने कोरोना संक्रमण से मरने वालों की सूची तैयार की तो उनमें बदायूं जिले के 14 शिक्षक शामिल हैं। संघ की सूची में दावा किया गया है कि इन सभी शिक्षकों की मौत कोरोना संक्रमण से हुई है। मरने वाले शिक्षकों की सूची शासन को भेज दी गई है।

वहीं इनमें से अधिकांश वह शिक्षक शामिल हैं जिनकी ड्यूटी त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव कार्य में लगाई गई थी। साथियों के असमय काल के गाल में समाने पर शिक्षकों की आंखे नम है। लगातार एक के बाद एक साथी के दम तोड़ने पर भयभीत भी होने लगे हैं। जिस पर उत्तर प्रदेशीय शिक्षक संघ की कार्य समिति ने प्रदेश ने पूर्व में मतगणना कार्य का बहिष्कार करने का भी निर्णय लिया था। बावजूद शासन स्तर से शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई।

कोरोना से मरने वाले शिक्षकों के नाम : म्याऊं विकास क्षेत्र में प्राथमिक विद्यालय नवादा के दिग्विजय यादव, समरेर विकास क्षेत्र में प्राथमिक विद्यालय धनोरा के वरूण कुमार, इसी विकास क्षेत्र में प्राथमिक विद्यालय फिरोजपुर के संजय सक्सेना, इस्लामनगर विकास क्षेत्र में प्राथमिक विद्यालय सखामई के खालिद रफी, अंबियापुर विकास क्षेत्र में सतेती के उमेश मिश्रा, बिसौली विकास क्षेत्र में प्राथमिक विद्यालय रायपुर खुर्द के अवधेश कुमार, जगत विकास क्षेत्र में प्राथमिक विद्यालय फतेहपुर के सुनील कुमार शर्मा, उसावां विकास क्षेत्र में बंगस नगला के कर्मवीर, दहगवां विकास क्षेत्र में भगता नगला आरिफ के ऋषिपाल सिंह, इसी विकास क्षेत्र से सिरसौल के अजय चंद्र, कमाल जल्लूनगर के मनुराज वर्मा, प्राथमिक विद्यालय दानपुर के अरूण कुमार, उसावां विकास क्षेत्र के कटरा सअादतगंज के रवींद्र पाल को कोरोना असमय लील गया।

Edited By: Samanvay Pandey