बाराबंकी : अब वह जमाना नहीं हैं, जब पांच वर्ष सड़क चलती थी। अब महज छह महीने में ही नवनिर्मित सड़क टूटकर बिखर जा रही है। सड़क निर्माण में मानक का ख्याल रखा गया है न गुणवत्ता का ध्यान। दो माह में गुणवत्ता के दावों की हकीकत उभर का सामने आ गई है। दरियाबाद ब्लाक के मेहौरा से गड़रियनपुरवा तक संपर्क मार्ग का डामरीकरण (नवीनीकरण) के तहत निर्माण करीब तीन माह पहले हुआ था। इस मार्ग की दूरी करीब दो किमी होगी। इस मार्ग का निर्माण होते ही गुणवत्ता की सारे दावें फेल नजर आएं। सड़क पूरी तरह से मेहौरा गांव से लेकर तिवारी का पुरवा गांव तक उखड़ गई। सड़क बनने के तीसरे ही दिन उखड़ने लगी थी, लेकिन कोई मरम्मत करने नहीं आया। मेहौरा से गड़रियनपुरवा तक बने इस मार्ग के बीच में पड़ने वाले तिवारी का पुरवा के पास रामफेर के घर के बाद से सड़क निर्माण नहीं हुआ। वाहन अंदर नहीं जा पाएगा। उधर गड़रियनपुरवा से बनकर आई सड़क का काम रोक चकभड़ौली विद्यालय के निकट रोक दिया गया। करीब तीन सौ मीटर सड़क बीच में बनी ही नहीं। तिवारी का पुरवा के रामफेर, बैजनाथ व चक भड़ौली के हरिश्चंद्र ने बताया कि बीच में वाहन न आने की बात कहकर सड़क निर्माण छोटे वाहन लाकर कराने की बात कही गई थी। करीब दो माह हो गए, काम अधूरा ही है। लगातार लोग उखड़ चुकी सड़क की गिट्टियों पर फिसल कर गिर रहे हैं।

----------- अधिशासी अभियंता अजय कुमार ने बताया कि सड़क को ठीक कराने के लिए निर्देश दिए गए हैं, जल्द ही सड़क सही हो जाएगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप