बाराबंकी : परिवहन सेवा के लिए सरकार ने बसों का संचालन तो शुरू कर दिया है, लेकिन सवारी न मिलने के कारण बस संचालकों का मोह भंग हो रहा है। बस चलाने में आने वाले खर्च अधिक और आमदनी कम होने के कारण अब संचालक बसों का संचालन बंद कर रहे हैं। मंगलवार को दूसरे दिन भी सवारियों का औसत 20 फीसद से कम ही रहा।

लॉक डाउन के चलते 25 मार्च परिवहन सेवा को ठप कर दिया गया था। सोमवार से परिवहन की अनुमति के बाद बसों का संचालन शुरू हुआ। पहले दिन सोमवार को मात्र परिवहन निगम से अनुबंधित बसों का संचालन हुआ और 93 बसों पर मात्र 1302 यात्री आए। जबकि निजी आपरेटरों ने बसों का संचालन ही नहीं किया। सवारी न मिलने के कारण बस मालिकों का मनोबल टूटा है। संचालन शुरू होने के दूसरे दिन भी स्थिति खराब रही। सवारियों का औसत 20 फीसद तक नहीं पहुंचा। हालांकि मंगलवार को करीब 90 बसों का संचालन हुआ, लेकिन सवारियां इक्का दुक्का ही मिली। जिसके कारण कई बस मालिकों ने बसें खड़ी कर दीं।

एआरएम आरएस वर्मा ने बताया कि करीब एक दर्जन बस मालिकों ने अपनी बसों का संचालन बंद कर दिया है। पुराने बस अड्डे का भी संचालन शुरू कर दिया गया है। हालांकि धीरे-धीरे स्थिति सामान्य होने की उम्मीद है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस