चित्र-11बीआरके-14

बाराबंकी : मसौली थाना क्षेत्र के अनूपगंज निवासी जाबिर की पुत्री सलमा आठ सितंबर शनिवार को मारपीट में जख्मी हुई थी उसकी चोटों का परीक्षण सीएचसी बड़ागांव में उसी दिन हो गया लेकिन सिर का एक्सरे इसलिए नही हो सका क्योंकि सीएचसी पर एक्सरे मशीन नहीं है। ऐसे में उसे एक्सरे के लिए जिला चिकित्सालय रेफर किया गया। रविवार को छुट्टी का दिन होने के कारण सोमवार को जिला चिकत्सालय में एक्सरे हुआ। मंगलवार को उसकी रिपोर्ट मिली। सलमा ने कहा कि जितना दर्द सिर में चोट लगने पर नहीं हुआ उससे ज्यादा परेशानी एक्सरे के लिए दौड़ लगाने में हो रही है। र, बाराबंकी : मसौली थाना क्षेत्र के अनूपगंज निवासी जाबिर की पुत्री सलमा आठ सितंबर शनिवार को मारपीट में जख्मी हुई थी उसकी चोटों का परीक्षण सीएचसी बड़ागांव में उसी दिन हो गया लेकिन सिर का एक्सरे इसलिए नही हो सका क्योंकि सीएचसी पर एक्सरे मशीन नहीं है। ऐसे में उसे एक्सरे के लिए जिला चिकित्सालय रेफर किया गया। रविवार को छुट्टी का दिन होने के कारण सोमवार को जिला चिकित्सालय में एक्सरे हुआ। मंगलवार को उसकी रिपोर्ट मिली। सलमा ने कहा कि जितना दर्द सिर में चोट लगने पर नहीं हुआ उससे ज्यादा परेशानी एक्सरे के लिए दौड़ लगाने में हो रही है।

इसी तरह अन्य बीमारियों का इलाज भी एक्सरे मशीन के अभाव में नहीं हो पाता है जिसमें हड्डी व फेफड़ा रोग के मरीजों के इलाज में परेशानी होती है। यह हाल कोठी, सिद्धौर, जहांगीराबाद, सआदतगंज, सुबेहा, त्रिवेदीगंज, घुंघटेर, मथुरानगर, सतरिख, व देवा सीएचसी का है। आश्चर्य तो यह कि इन स्थानों पर एक्सरे मशीन न होते हुए भी एक्सरे टेक्नीशियन की तैनाती है।

जबकि सिरौलीगौसपुर, टिकैतनगर, फतेहपुर, जैदपुर, सूरतगंज, रामसनेहीघाट व हैदरगढ़ सीएचसी पर एक्सरे मशीन है पर बहुत कम लोगों का ही एक्सरे हो पाता है। मशीन यदि खराब हो जाती है तो महीनों ठीक नहीं कराई जाती।

शासन से मशीन के लिए पत्राचार : सीएमओ डॉ. रमेश चंद्र का कहना है कि बिना एक्सरे मशीन के टेक्नीशियन की तैनाती है। सभी सीएचसी पर एक्सरे मशीन के लिए शासन से निरंतर पत्राचार किया जा रहा है। एक्सरे टेक्नीशियन की तैनाती स्वास्थ्य निदेशालय से हुई है। एक्सरे टेक्नीशियन से सीएचसी पर दूसरे कार्य लिए जाते हैं। मशीन आते ही वह अपना मूल कार्य करेंगे।

Posted By: Jagran