बाराबंकी : दस दिन पूर्व संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हुए युवक की हत्या कर दी गई है। पत्नी ने अपने आशिक व उसके सहयोगी की मदद से अपने पति की हत्या कराकर शव गायब करा दिया था। मृतक के भाई ने भाभी सहित तीनों आरोपितों पर नामजद हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है। शातिर पत्नी ने अपनी बचत में पति की गुमशुदगी दर्ज करा दी थी। पुलिस ने शुक्रवार को पत्नी की निशान देही पर दिनभर गोमती नदी में शव की तलाश करती रही। शाम को नदी में सिर मिला है, कपड़े भी बरामद हुए, जिस पर मरने वाले युवक की पहचान हुई है।

जैदपुर थाना क्षेत्र के इचौलिया निवासी अरुण कुमार 22 मार्च को संदिग्ध हालात में लापता हो गया था। अरुण के छोटे भाई चंद्रेश ने जैदपुर थाना क्षेत्र के मकबूलगंज मजरे बलछत निवासी प्रदीप कुमार व बलछत निवासी विनोद कुमार पर अपहरण का आरोप लगाया था। पुलिस ने बताया कि अरुण की पत्नी का आरोपितों से अवैध संबंध था, जिसका अरुण व उसके परिवारजन विरोध करते थे। जिसके चलते अरुण की पत्नी रेनू उर्फ राधारानी ने प्रदीप कुमार और विनोद के साथ मिलकर अरुण की हत्या की साजिश रची। पति का अपहरण करावाकर उसकी हत्या करवा दी ओर शव गायब करा दिया। वारदात की सूत्रधार पत्नी ने अपने बचाव में थाने में गुमशुदगी की तहरीर दी थी, जिससे घर वालों को किसी प्रकार का शक न हो। महिला की निशान देही पर पुलिस ने शुक्रवार को कोठी थाना के खानापुर गांव में गोमती नदी में लापता युवक के शव की खोजबीन गोताखोरों की मदद से शुरू की। यहां नदी की किनारे मृतक के कपड़े व खानापुर गांव के पास नदी में सिर मिला है। पुलिस कपड़े व सिर को अपने साथ ले आई है। एसओ अमरेश कुमार बघेल ने बताया कि अरुण की पत्नी सहित तीनों पर हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मिले सिर को परीक्षण के लिए भेजा गया है।

Posted By: Jagran