बाराबंकी, जेएनएन। बाराबंकी स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर रविवार तड़के एक युवक की जान बाल- बाल बची। लोकनायक एक्सप्रेस ट्रेन से उतर रहे युवक का पैर पायदान में फंस गया। इससे वह ट्रेन के साथ घिसटने लगा। गस्‍त पर जीआरपी के सिपाही ने युवक की चीख सुनी और दौड़ते हुए पहुंचा। युवक का हाथ पकड़ उसे एक झटके से खींचकर उसकी जान बचाई। पुलिस मित्र की भावना को साकार करने वाले सिपाही की यात्रियों और सहकर्मियों ने सराहना की है। 

दरअसल, बुलंदशहर जिले के गुलावठी निवासी हेमंत कुमार 15116 लोकनायक एक्सप्रेस से लखनऊ जा रहा था। नींद आ जाने के कारण वह लखनऊ में नहीं उतर सका। रविवार की तड़के करीब तीन बजे बाराबंकी स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर ट्रेन की रफ्तार कुछ कम हुई तो वह उतरने लगा। इस दौरान उसका पैर पायदान में फंस गया और ट्रेन के साथ घिसटने लगा। वहीं, गस्त कर रहे सिपाही मो. सहीम ने युवक की चीख सुनी तो उसने दौड़कर हेमंत को खींचकर उसकी जान बचाई। इसके बाद यात्री ने सिपाही का आभार जताया। सिपाही के इस साहसिक कार्य के लिए उसके साथियों ने भी इस कार्य की प्रशंसा की।

क्‍या कहते हैं जीआरपी प्रभारी? 

बाराबंकी जीआरपी प्रभारी निरीक्षक अंजनी कुमार ने बताया कि संबंधित ट्रेन का यहां स्टेशन पर स्टाप नहीं है। ड्यूटी के दौरान सिपाही सहीम ने ट्रेन के संग घिसट रहे यात्री को बचाकर सराहनीय कार्य किया है। यात्रियों को संयमित रहना चाहिए और ट्रेन रुकने पर ही उतरना चाहिए।

Posted By: Divyansh Rastogi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस