बाराबंकी : दुर्गापूजा और ताजिया जुलूस के दौरान कई स्थानों पर कानून-व्यवस्था तार-तार हुई। आगजनी, तोड़फोड़ और पथराव की वारदातों के बीच साम्प्रदायिक तनाव रहा। मुश्किल से हालात काबू हुए। पथराव से जैदपुर में एक दारोगा समेत कई घायल हुए। जैदपुर, मोहम्मदपुर खाला सहित थाना क्षेत्रों में तनाव के ²ष्टिगत पुलिस व पीएसी बल तैनात है।

कस्बा अहमदपुर में रविवार शाम मूर्ति विसर्जन कर लौट रहे करीब 28 गांव के लोग कस्बा के बीच से निकले रास्ते से जा रहे थे। दो ट्रैक्टर ट्रालियों पर महिलायें व बच्चे सवार थे। इस बीच ताजिया का जुलूस उसी मार्ग से सौ मीटर पर चल रहा था। पुरुषों की ट्रैक्टर ट्रालियां एक के बाद एक निकल गईं। आरोप है कि महिलाओं की ट्राली जब बाजार में पहुंची तो समुदाय विशेष के लोगों ने उस ट्रॉली को रोक दिया गया। जब अहमदपुर चौकी इंचार्ज रतन ¨सह ने हस्तक्षेप किया तो उपद्रवियों ने पुलिस टीम पर हमला बोल दिया। टीम जान बचाकर घरों में घुस गई। भीड़ ने घर का दरवाजा भी तोड़ दिया। पुलिसकर्मियों ने स्वयं को मुश्किल से बचाया। उपद्रवियों ने ट्रॉली में बैठी महिलाओं पर हमला किया जिसमें फतेहबहादुर, किरन कुमारी, राम बरन, सूरज, दुर्गेश सहित दो अन्य लोगों को पथराव और धारदार हथियार से गंभीर चोटें आई हैं।

विपक्षियों का आरोप है कि ताजिया जुलूस के दौरान ट्रैक्टर-ट्रॉली निकालने को लेकर हुए विवाद के बाद लोगों ने वाहन, घर व दुकानों में तोड़फोड़ व आगजनी की। ईदगाह की दीवार भी ढहा दी। जिसे प्रशासन ने तत्काल ठीक कराई। साम्प्रदायिक माहौल को काबू करने के लिए डीएम अखिलेश तिवारी और एसपी एके ¨सह कई थानों की पुलिस, पीएसी और फैजाबाद पुलिस के साथ रातभर प्रभावित क्षेत्र में कैंप किया।

आगजनी में 300 पर मुकदमा

सिद्धौर : जैदपुर के ग्राम अहमदपुर से फैली यह आग न्योछना व पारा गांव तक पहुंची। यहां हुई तोड़फोड़ व आगजनी के मामले में पारा इब्राहिम निवासी अंसार अहमद ने असन्द्रा थाने में 24 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। एएसपी शशिकांत तिवारी ने बताया कि दोनों पक्षों से 55 नामजद व 300 अज्ञात पर मुकदमा दर्ज किया गया है। चौकी इंचार्ज अहमदपुर रतन ¨सह को निलंबित कर दिया गया है। एहतियात के तौर पर क्षेत्र में पुलिस बल तैनात है। वहीं असंदरा थाने में भी एक मुकदमा दर्ज किया गया है। आगजनी व तोड़फोड़ करने वाले 19 लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है।

पुलिस ने जबरन कराया विसर्जन

सूरतगंज/बेलहरा : मोहम्मदपुर खाला थाना क्षेत्र के ग्राम सुरर्जनपुर में 30 सितंबर को करीब 20 गांवों की 13 प्रतिमाओं को ग्रामीण भटुआमऊ होते हुए ले जाना चाहते थे। जबकि हाई कोर्ट से इस रास्ते पर प्रतिबंध है। गांव के बारह से विसर्जन का जुलूस ले जाने का आदेश था। इसके लिए समिति मां दुर्गा जागरण समिति के अध्यक्ष जयकरन सहित अन्य सदस्य न्यायालए गए थे। यहां सात मूर्तियां लाकर ट्रालियों में रख दी गई थीं। श्रृद्धालुओं से एडीएम, एएसपी और एसडीएम व सीओ सुबह 12 बजे से वार्ता कर रहे थे लेकिन बात नहीं बनी। आखिरकार पुलिस ने देर रात करीब 12 बजे क्षेत्र की बिजली कटवाई और तांडव शुरू कर दिया। जबरन सभी प्रतिमाओं का विसर्जन कर दिया।

पुलिस ने घर भीतर घुसकर पीटा

लछीपुर, शिवमंदिर बेलहरा और बाबा साहब सहित चार गांव जहां मूर्तियां नहीं उठाई गई थीं। ग्रामीणों का कहना है कि हवाई फायर और लाठियां भांजते हुए पुलिस ने जबरन मूर्तियों उठाकर विसर्जन कर दिया।संतोष मौर्या, पड़ोसी उदित, सहित राम प्रसाद, विपिन, देशराज, रोहित, नरेंद्र आदि के घरों में पुलिस ने तोड़फोड़ कर पिटाई की। पीटने के बाद पुलिस ने 33 नामजद व दो सौ अज्ञात लोगों पर बलवा, सरकारी कार्य में बाधा और अन्य गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। वहीं गौडा गांव में रविवार को लोग मोहर्रम के अंतिम दिन एक घर की छत से पथराव शुरू हो गया। जिसमें मुस्लिम नाम के व्यक्ति को चोट आई। उसकी तहरीर पर पर शत्रोहन, बाबू, रामेश, नान, सतीश व धर्मराज सहित सात को नामजाद पर मुकदमा दर्ज कराया है।

दरियाबाद : दरियाबाद के लालपुर गुमान गांव में जुलूस के दौरान दूसरे समुदाय के धार्मिक स्थल के सामने बाजा बजाने को लेकर विवाद हो गया। एक व्यक्ति को विपक्षियों ने पीट डाला। लोगों ने विरोध शुरू किया। कई घंटे बाद प्रशासन ने वार्ता कर मामला शांत कराया। हूसेपुर में विवाद पुलिस की सतर्कता से टल गया।

जुलूस में पथराव, दारोगा नदारद

सफेदाबाद : कोतवाली नगर के दानियालपुर गांव में रविवार की शाम मात्र एक सिपाही के साथ मोहर्रम का जुलूस निकला। चौकी प्रभारी पुलिस कर्मियों के साथ एक व्यक्ति के घर के बाहर नास्ता पानी कर रहे थे। कीचड़ के कारण जुलूस को दूसरे रास्ते से ले जाने की बात कही। विवाद शुरू हो गया। जमकर ईंट गुम्मे चलने लगे। बाद में नगर कोतवाली प्रभारी पहुंचे। बड़ी मुश्किल से मामला शांत हुआ।

कोठी : थाना क्षेत्र के सादुल्लापुर गांव के लोग शनिवार को मूर्ति विसर्जन कर वापस लौट रहे थे। लाखूपुर गांव के पास कुछ अराजक तत्वों ने हमला कर मूक-बधिर राम सहारे (32) तालाब में डूबा-डूबाकर मारने की कोशिश की। पुलिस को लाठी चलाना पड़ा। राम सहारे को गंभीर हालत में ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। समिति के अध्यक्ष सुनील कुमार, विवेक कुमार, पुष्पेंद्र कुमार, उत्तर बहादुर, बृजेश कुमार आदि पर मुकदमा दर्ज किया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस