बाराबंकी : दरियाबाद के पीएचसी केंद्रों पर आयोजित होने वाले आरोग्य मेले में महज औपचारिकता निभाई जा रही है। निरीक्षण के दौरान स्टॉल खाली दिखने पर मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ बीकेएस चौहान ने नाराजगी जताते हुए कार्रवाई की चेतावनी दी।

दरियाबाद : आरोग्य मेले का हाल जानने के लिए सीएमओ रविवार को कोटवाधाम स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचे। यहां पर उनको बाल विकास विभाग के स्टाल पर नाम मात्र की सामग्री मिली। इस पर सीएमओ ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व स्वास्थ्य स्टाफ से बांटी गई सामग्री का विवरण मांगा। कहा, किन गर्भवतियों को सामग्री दी गई है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने बताया बंदर सामग्री उठा ले जाते हैं। इस पर सीएमओ ने कहा कि फिर यहां स्प्रिट और सिरिज कैसे बच गईं। उन्हें प्रचार के लिए मिला माइक भी नदारद मिला। इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कार्रवाई की चेतावनी दी। इसके बाद खजुरी और गाजीपुर पीएचसी पर आयोजित आरोग्य मेला का हाल देखा। सीएचसी अधीक्षक डॉ कुमार संजय पांडेय ने बताया कि सीएमओ ने आरोग्य मेला का निरीक्षण किया। कहीं कोई कमी नहीं मिली।

3097 मरीजों को आरोग्य मेले में मिला इलाज : जिले की 57 पीएचसी पर मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला लगा। कुल 3097 मरीजों का इलाज किया गया। नोडल अधिकारी डॉ. डीके श्रीवास्तव ने बताया कि 1052 पुरुष व 1499 महिला मरीजों का इलाज किया गया। इसमें 546 बच्चों का भी उपचार किया गया। 262 लोगों को आयुष्मान गोल्डन कार्ड बनाए गए। 150 चिकित्सक व 532 पैरामेडिकल स्टाफ ने मरीजों का इलाज किया। 356 लोगों की कोविड जांच की गई। सभी के टेस्ट निगेटिव आए। इस दौरान सीएमओ ने कोटवासड़क, गाजीपुर, खजुरी, कोटवाधाम, महमूदाबाद, उधौली व दादरा सीएचसी का निरीक्षण किया।

Edited By: Jagran