बाराबंकी : छात्र हितों के मुद्दों को लेकर मंगलवार को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता एकजुट हुए। जनेस्मा परिसर में विरोध प्रदर्शन किया। ज्ञापन प्रबंध समिति के सचिव एसडीएम को सौंपा गया।

ज्ञापन में कार्यकर्ताओं का कहना है कि शिक्षा का मंदिर पठन पाठन के लिए होना चाहिए। अराजकता का कोई भी स्थान लोकतंत्र में नहीं होना चाहिए। संगठन लगातार छात्र हितों के मुद्दे को उठाता है। छात्रों के पानी पीने की व्यवस्था, शौचालय, लाइब्रेरी कॉलेज में इंटरनेट की व्यवस्था के अलावा छात्राओं के लिए अलग व्यवस्था कि सकारात्मक मांग करते हैं। जो लोग प्राचार्य के कहने पर कैंपस में आते हैं उनके ऊपर एफआइआर दर्ज नहीं कराई जाती है। लेकिन, छात्र अगर कोई बात कहते है तो उनके खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई जाती है। यह गलत है। कार्यकर्ताओं ने कहा कि अगर प्रशासन ने कठोर कार्रवाई नहीं की विद्यार्थी परिषद उग्र आंदोलन करेगी। प्रदर्शन में सर्वेश अवस्थी, संगठन मंत्री अनुराग, आकाश पटेल, शिवा वर्मा, सीताकांत, अनुराग पार्थ, धनंजय, निशांत, पूनम, दिवांशु, रिचा, खुशबू, शिखा, पूजा, अमिताभ, कृष्णा चंद्र प्रकाश आदि शामिल रहे।

इस संबंध में प्राचार्य डॉ. रामशंकर यादव कहना है कि मै आज अवकाश पर था। कॉलेज में अराजकता नहीं बर्दाश्त की जाएगी। कमेटी बनाकर प्रकरण पर जांच कराएंगे। इसकी शिकायत डीएम व एसपी से की जा चुकी है। कॉलेज में अराजकतत्वों के प्रवेश पर हर हाल में रोक लगेगी।

Posted By: Jagran