महिला अस्पताल की छह घंटे से बिजली गुल, नहीं हो पाया आपरेशन

जागरण संवाददाता, बांदा : सरकारी अस्पतालों की विद्युत व्यवस्था नहीं सुधर रही है। जिला महिला अस्पताल के ट्रांसफार्मर की सीटी फूंकने से छह घंटे जली गुल रही। इस दौरान प्रसूता का आपरेशन नहीं हो पाया। मजबूरी में उसे रेफर करना पड़ा। जांचे व अन्य कार्य भी प्रभावित रहे हैं। गर्मी से प्रसूता व नवजात शिशु परेशान रहे।

जिला महिला अस्पताल में शनिवार को पखवारा भर में दूसरी बार बिजली गुल होने की समस्या बनी रही। दोपहर करीब साढ़े 12 बजे से अचानक ट्रांसफार्मर में धुआं निकलना शुरू हो गया। इसके बाद विद्युत आपूर्ति बाधित हो गई। अस्पताल प्रशासन ने लखनऊ स्थित पावर कारपोरेशन अधिकारियों को मामले की जानकारी दी। स्थानीय स्तर पर बिजली कर्मचारी मरम्मत कार्य में जुटे हैं।

हालांकि जिला व महिला अस्पताल को बिजली कटौती से मुक्त रखा गया है। इसके लिए तिंदवारी रोड स्थित 220 केवी सब स्टेशन से 33 केवी की लाइन अलग से डाली गई है। विद्युत आपूर्ति बाधित होने से जनरेटर चला कर बिजली आपूर्ति चालू की गई। जनरेटर भी पुराना होने से बीच-बीच में बंद होता रहा। बिजली आपूर्ति ठप्प होने से सीवीसी समेत अन्य जांचें नहीं हो पाईं। सिक न्यूबार्न केयर यूनिट में सबसे बड़ी समस्या रही। वहां बच्चों को आक्सीजन में रखा जाता है। एसी भी चलनी चाहिए। मरीज जांचों के लिए परेशान होते रहे हैं। उमस भरी गर्मी में वार्डों में भर्ती प्रसुताओं और नवजात शिशु बेहाल रहे। बिजली गुल होने से अस्पताल में अफरा-तफरी रही। डाक्टर व स्टाफ बिजली आने का इंतजार करते रहे। जांच करवाने आए मरीज भी हाथ से बने पंखे का सहारा लेते रहे। शाम करीब सवा छह बजे तक काफी मशक्कत के बाद भी आपूर्ति बहाल नहीं हो पाई। मरीजों और तीमारदारों ने अस्पताल कर्मियों व बिजली विभाग के अधिकारियों के प्रति नाराजगी जताई है। सीएमएस डा.सुनीता सिंह ने बताया कि ट्रांसफार्मर में तकनीकी खराबी आने से विद्युत आपूर्ति बाधित हुई। मामला जानकारी में आते ही पावर कारपोरेशन अधिकारियों को सूचना दी गई है। बिजली आपूर्ति बहाल कराने के प्रयास किए जा रहे हैं। विद्युत विभाग के जेई भी आपूर्ति शुरू कराने के लिए जुटे हैं। 220 केवीए विद्युत सब स्टेशन के एसडीओ सत्यवीर सिंह ने बताया कि जिला महिला अस्पताल का ट्रांसफार्मर खराब होने की जानकारी मुख्यालय लखनऊ में अभियंताओं को दे दी गई है। ट्रांसफार्मर की मरम्मत के लिए लखनऊ से इंजीनियर को बुलाया गया है। स्थानीय स्तर पर अभियंताओं और लाइनमैनों की टीम ट्रांसफार्मर को दुरुस्त करने का प्रयास कर रही है।

Edited By: Jagran