जागरण संवादाता, बांदा: मनरेगा मेठों को लखनऊ से आनलाइन प्रशिक्षण दिया गया। कार्यस्थल पर योजना से मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी दी गई। कहा गया कि यदि कार्यस्थल पर सूचना बोर्ड, पीने के साफ पानी, छाया आदि की व्यवस्था नहीं है, तो इसकी सूचना योजना की कार्यकारी एजेंसी को देना है।

जिले के सभी ब्लाक सभागारों में महिला मेठों को राज्य मनरेगा सेल लखनऊ से इंटरनेट के माध्यम से प्रशिक्षण दिया गया। मेठों को प्रशिक्षण में बताया गया कि जिन मजदूरों के मस्टर रोल में नाम हो, केवल वह ही योजना में काम करें। यदि मस्टर रोल में किसी प्रकार की त्रुटि अथवा अनियमितता पाई जाती है, या फिर कार्यस्थल में सुविधाएं उपलब्ध न हों तो तुरंत योजना की कार्यकारी एजेंसी या फिर खंड विकास अधिकारी को सूचित करें। हर कार्य दिवस पर मजदूरों की हाजिरी बनाना है। कार्य सप्ताह के आखिरी दिन किसी सार्वजनिक स्थल पर मजदूरों को उनके नाम से बनी हाजिरी पढ़कर सुनाना है। इसके अलावा योजना से संबधित अन्य जानकारी से महिला मेठों को अवगत कराया गया। उपायुक्त मनरेगा राघवेन्द्र तिवारी ने बताया कि जिले के सभी ब्लाकों मे महिला मेठों को लखनऊ से प्रशिक्षण दिया गया है। बताया कि जिले में सात सौ से अधिक महिला मेठों का चयन कर लिया गया है।

Edited By: Jagran