संवाद सहयोगी, अतर्रा : एक दिन पूर्व जिले के दौरे पर आए दक्षिणांचल विद्युत वितरण निगम आगरा के एमडी ने जिले में 24 घंटे बिजली आपूर्ति के निर्देश दिए थे। मगर उनके इन आदेशों का असर अतर्रा में 24 घंटे तक भी न रहा। शनिवार को दुर्गाष्टमी व राम नवमी का पर्व होने के बाद भी बारह घंटे विद्युत कटौती की गई। इससे लोगों व्रत के दिन भी पानी के लिए परेशान होना पड़ा।

शुक्रवार को जिला मुख्यालय आये प्रबंध निदेशक सुधीर कुमार वर्मा ने मंडलीय बैठक कर अधिशासी अभियंताओं को विद्युत व्यवस्था सही रखने के निर्देश दिए थे। लेकिन उनके निर्देश के कुछ घंटे बाद ही कस्बे में जर्जर केबिल उपयोग के कारण बदौसा रोड स्थित पावर हाउस में लगे दो ट्रांसफार्मर 10 एमबीए व पांच एमबीए की बीएमसी एवं इनकमिग केबिल के जल जाने के कारण आपूर्ति बंद हो गयी। पूरी रात लाइट गुल रहने के बाद शनिवार दोपहर 1 बजे बहाल हो सकी। विद्युत आपूर्ति बंद होने के कारण कस्बे में पेयजल आपूर्ति बाधित रही। इससे दुर्गाष्टमी व रामनवमी त्यौहार में श्रद्धालुओं को सुबह से स्नान, पूजा आदि कार्यों में बाधा उत्पन्न हुई। लोगों को दूर-दराज लगे हैंडपंपों से पानी लाना पड़ा। पानी लेने के लिए हैंडपंपों में लंबी कतार देखी गई। बिजली विभाग की सुस्त कार्यशैली से कस्बावासियों में आक्रोश व्याप्त है।

उपखंड अधिकारी ज्ञानेश कुमार ने बताया कि पावर हाउस में लगे दो ट्रांसफार्मरों की वीएमसी व केबिल जलने के कारण आपूर्ति बाधित हुई थी। जिसे सही कर दिया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस