बलरामपुर : जिले में देव शिल्पी भगवान विश्वकर्मा की जयंती धूमधाम से मनाई गई। नगर के गोंडा मार्ग स्थित विश्वकर्मा मंदिर, औद्योगिक प्रतिष्ठान व कल-कारखानों में विधिविधान से पूजा-अर्चना की गई। लोगों ने भगवान विश्वकर्मा के साथ मशीनों व औजारों की पूजा की। विश्वकर्मा मंदिर पर भोर से ही भक्तों के आने का सिलसिला शुरू हो गया। पूजन के बाद भंडारे में हरीराम विश्वकर्मा, बृजेश, सुमित शर्मा, रामकृपाल, रामबाबू, श्याम किशोर, केशवानंद, राम अक्षयवर विश्वकर्मा ने भक्तों को प्रसाद वितरित किया। रोडवेज की कार्यशाला में भी विश्वकर्मा की जयंती धूमधाम से मनाई गई। एमपीपी इंटर कॉलेज में प्रधानाचार्य कैप्टन जीपी तिवारी के नेतृत्व में शिक्षकों ने भगवान विश्वकर्मा की जयंती मनाई। देवशिल्पी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर आराधना की। गीता, गौतम, अनुराग मोहन पांडेय, रमेश चंद्र, उमाशंकर ¨सह, उमानाथ यादव ने बच्चों का इनके कार्यों की जानकारी भी दी। तीनों चीनी मिलों में भी जयंती परंपरागत तरीके से मनाई गई। उतरौला संवादसूत्र के अनुसार देवताओं के शिल्पी भगवान विश्वकर्मा का जन्मदिन पर पूजा-पाठ हुआ। लौह अयस्क की दुकानों, वे¨ल्डग, बढ़ई व खराद की कार्यशाला में लोगों ने विधिविधान से पूजा की। लालगंज, बकसरिया, महुआ बाजार, महदेइया में भी धूमधाम से जयंती मनाई। ललिया संवादसूत्र के अनुसार क्षेत्र में विश्वकर्मा पूजा हर्षोउल्लास से मनाया गया। विद्युत उपकेंद्र बेलभरिया पर विकास चंद्र ने पुजा आर्चना की उसके बाद प्रसाद बितरण किया। ललिया, मथुरा, कोड़री, बलदेवनगर व शिवपुरा में लगे छोटे मशनरी पर पूजा पाठ कर विश्वकर्मा भगवान की आराधना की गई।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran