बलरामपुर : प्रथम पूज्य देव गणपति के पूजन का महोत्सव गुरुवार से शुरू हो रहा है। जगह-जगह भगवान गणेश की प्रतिमाएं स्थापित की जाएंगी। सुबह- शाम पूजन-अर्चन, प्रवचन, सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। नगर क्षेत्र में दस दिनों तक सिद्ध विनायक की आराधना करते हुए लोग रिद्धि और सिद्धि की कामना करेंगे। जिले भर में 90 प्रतिमाएं रखी जाएंगी। गणपति पूजन के लिए मूर्तियों को अंतिम रूप देने में कलाकार जुटे हुए हैं। उतरौला संवादसूत्र के अनुसार नगर क्षेत्र में पिछले वर्ष 27 स्थानों पर गौरी सुत की आकर्षक प्रतिमाओं के पंडाल सजाए गए थे। दु:खहरण नाथ, खाकीदास, पुराना अस्पताल, रामजानकी मंदिर, शिवगढ़ी मंदिर, बस स्टैंड के पास, ज्वाला महारानी मंदिर समेत अनेक लोगों के घरों पर भी गजानन की मूर्तियां स्थापित की गई थी। ग्रामीण क्षेत्र महुआ बाजार, श्रीदत्तगंज, पिरैला में भी प्रतिमाएं रखी जाएंगी। गणेश चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक चलने वाले पूजन के दौरान प्रतिमाओं को देखने और धार्मिक कार्यक्रमों को देखने-सुनने के लिए दिन भर लोगों का तांता लगा रहता है। अनंत चतुर्दशी को सभी प्रतिमाएं शोभायात्रा के रूप में निकाली जाती हैं। राप्ती नदी में विधि-विधान पूर्वक उनका विसर्जन किया जाता है। महोत्सव को सकुशल संपन्न कराने के लिए प्रशासन ने कमर कस ली है। जिले भर में 90 प्रतिमाएं रखी जाती है। पूजन को लेकर पंडाल को सजाया संवारा जा रहा है। एसपी राजेश कुमार ने बताया कि सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। सुरक्षा के लिए पुलिस कर्मियों को सतर्क कर दिया गया है।

Posted By: Jagran