संवादसूत्र, बलरामपुर :

देहात कोतवाली की पुलिस ने इमिलिया डिहवा गांव निवासी राजकुमार जायसवाल के हत्यारे को चार दिन बाद गिरफ्तार कर लिया। हत्याभियुक्त प्रधान सुनील कुमार जायसवाल उर्फ बाबा के कब्जे से आलाकत्ल देशी तमंचा, तीन जिदा कारतूस व एक खोखा भी बरामद किया गया है। इससे पूर्व हत्या में शामिल दो अभियुक्तों सुखराम व बुद्धराम को पुलिस पहले ही गिरफ्तार करके जेल भेज चुकी है।

पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सक्सेना ने बताया कि आठ जून की रात इमिलिया डिहवा गांव निवासी राजकुमार व उसका भाई शिवकुमार प्रधान के खेत से पानी का पाइप ले जा रहे थे। प्रधान सुनील कुमार जायसवाल उर्फ बाबा ने इसका विरोध किया, तो दोनों में विवाद हो गया। प्रधान ने तमंचा निकालकर राजकुमार व शिवकुमार पर फायर कर दिया। गोली शिवकुमार के दाहिने हाथ व राजकुमार के पेट में लगी। दोनों भाइयों को घायलावस्था में अस्पताल में भर्ती कराया गया। राजकुमार की इलाज के दौरान मौत हो गई। नौ जून को पुलिस ने प्रधान सुनील कुमार, सुखराम व बुद्धराम के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया। इसी दिन सुखराम व बुद्धराम को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। बताया कि प्रभारी निरीक्षक विद्यासागर वर्मा के नेतृत्व में पुलिस टीम प्रधान की तलाश कर रही थी। 12 जून को दोपहर 12 बजे उसे फुलवरिया बाइपास के पास गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ के दौरान उसकी निशानदेही पर घर के अलमारी में छिपाकर रखा 32 बोर देशी तमंचा, तीन जिदा कारतूस व एक खोखा बरामद कर लिया गया। प्रधान को जेल रवाना किया गया है। गिरफ्तारी करने वाली टीम में प्रभारी निरीक्षक के साथ उपनिरीक्षक उमाकांत मिश्र, ओम नारायण मिश्र, कांस्टेबल सोनू जायसवाल, देवेंद्र प्रताप सिंह, रणविजय सिंह, पुष्पेंद्र कुमार, अंबरीश पांडेय शामिल रहे।

Edited By: Jagran