मुहर्रम माह आज से, जुलूसों की तैयारियां पूरी

गैंड़ासबुजुर्ग (बलरामपुर) : मुहर्रम माह की शुरुआत रविवार से हो रही है। इसके लिए इमामिया ट्रस्ट उतरौला की ओर से कर्बला में शहीद हुए इमाम हुसैन की शहादत पर निकाले जाने वाले शोक जुलूस व मजलिस की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। ट्रस्ट के अध्यक्ष ऐमन रिजवी ने बताया कि उतरौला के सभी अजाखानों की रंगाई-पोताई कराकर अलम पंजा, अलम झंडा बैनर पोस्टर लगाकर पारंपरिक तरीके से सजाया गया है। प्रवक्ता नुसरत हुसैन ने बताया कि मुहर्रम का महीना शुरू हो रहा है। उतरौला के 24 इमाम बारगाहों में देर रात तक मजलिस पढ़ी जाएगी। इसमें मौलाना सिब्ते हैदर, मोहम्मद अली, मोहम्मद ताहिर कर्बला की घटना पर प्रकाश डालेंगे। पांचवीं मुहर्रम को पहला ताजिया जुलूस मरहूम जलील हुसैन के आवास से निकलकर सुभाषनगर के बड़ा इमामबाड़ा तक जाएगा। छठवीं का जुलूस अलम रफीनगर से निकलकर पटेलनगर के इमामबाड़े तक जाएगा। सातवीं का जुलूस व मेहंदी पटेलनगर से निकलकर मुख्य मार्गों से होते हुए वापस अपने स्थान तक जाएगा। आठवीं का जुलूस-ए-अलम सुभाषनगर के बड़ा इमामबाड़ा निकलकर मुख्य बाजार होते हुए वापस अपने स्थान पर पहुंचेगी। नौवीं की रात रफीनगर मजलिसे-ए-शबीह होगा। उसी रात पटेल नगर में ऐतिहासिक आग का मातम होगा। इसमें अकीदतमंद दहकते आग में नंगे पांव चलकर इमाम हुसैन का पुरसा देंगे। नवीं की शाम को बाद नमाजे मगरिब चौक पर ताजिया रखेंगे। लोग रात भर जागकर शब्बेदारी करेंगे। 10वीं मुहर्रम को पटेलनगर से जुलूस-ए-आशरा निकाला जाएगा। कर्बला में अकीदतमंद ताजिया को दफन करेंगे।

Edited By: Jagran