बलरामपुर : जिले के परिषदीय स्कूलों के नौनिहालों को ट्यूबलाइट की रोशनी व पंखे की हवा मुहैया कराने के नाम पर सिर्फ भ्रष्टाचार का झटका मिला। लोकसभा चुनाव के दौरान 1116 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में वायरिग व उपकरण के नाम पर 2,48,68,704 रुपये खर्च किए गए। मानकों को ताख पर रख वायरिग व उपकरण लगाकर खूब मलाई काटी गई, लेकिन अफसरों को जांच की फुर्सत नहीं मिली। वर्ष 2017-18 में 290 जूनियर हाईस्कूलों में कनेक्शन के लिए विद्युत विभाग को 20,16,950 व एसएमसी के खातों में वायरिग, उपकरण एवं एनर्जी चार्ज के लिए भेजे गए 85,22,520 रुपये कहां खर्च हुए, इसका हिसाब विभाग के पास नहीं है। जबकि कई स्कूल आज भी बिजली से महरूम हैं।

दो मदों से भेजी गई थी धनराशि : सर्व शिक्षा अभियान के तहत मार्च 2019 में 533 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में दो किश्तों में 1,26,25,704 रुपये भेजे गए थे। इसमें प्रति विद्यालय 17688 रुपये वायरिग व 6000 रुपये पंखे व ट्यूबलाइट के लिए दिए गए। जबकि बेसिक शिक्षा विभाग से 574 प्राथमिक स्कूलों 15 हजार वायरिग व छह हजार उपकरण की दर से 1,20,54,000 एवं नौ जूनियर हाईस्कूलों में 1,89,000 रुपये भेजे गए।

85 लाख का नहीं हिसाब : वर्ष 2017-18 में जिले के 290 उच्च प्राथमिक स्कूलों में 85,22,520 रुपये भेजे गए थे। जिसमें प्रति विद्यालय वायरिग के लिए 17,688, पंखा व ट्यूबलाइट के लिए 7,500 एवं एनर्जी चार्ज के लिए 4200 रुपये खर्च होने थे।

जिम्मेदार के बोल : बीएसए हरिहर प्रसाद का कहना है कि बजट के हिसाब से विद्युतीकरण कराया गया है। स्कूलों में लगे उपकरण के मानकों की जांच कराई जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप