संवादसूत्र, बलरामपुर : शहर को अतिक्रमण से मुक्त करने के लिए प्रशासन का बुलडोजर दूसरे दिन गुरुवार को भी चला। मजीद मोड़ से आंबेडकर तिराहा तक सड़क की पटरियों से अतिक्रमण हटवाया गया। प्रशासन की सख्ती से अतिक्रमणकारियों में अफरातफरी रही। सुबह के समय बुलडोजर आने से पहले ही लोग अवैध कब्जा हटाने में जुटे रहे।

जिलाधिकारी श्रुति के निर्देश पर शहर से अतिक्रमण हटाओ अभियान दूसरे दिन भी जारी रहा। नगर कोतवाल संजय दुबे व नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी राकेश कुमार की अगुवाई में मजीद मोड़ से फुटपाथों को अतिक्रमणमुक्त कराने का अभियान शुरू हुआ। मजीद मोड़ से ग‌र्ल्स कालेज चौहरा, चौक, मेजर चौराहा, मेमोरियल अस्पताल होते हुए आंबेडकर तिराहा तक सड़क की पटरियों पर अवैध निर्माण ढहाए गए। अतिक्रमणकारियों को पुन: काबिज होने पर कठोर कार्रवाई की चेतावनी दी।

उतरौला में भी चलेगा अभियान :

उतरौला शहर को अतिक्रमण से मुक्त कराने के लिए अभियान चलाने की रूपरेखा तय कर ली गई है। उपजिलाधिकारी संतोष कुमार ओझा ने व्यापार मंडल व सभासदों के साथ बैठक कर शीघ्र अभियान चलाने का निर्णय लिया। एसडीएम ने कहा कि शहर को जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए अभियान चलाना आवश्यक हो गया है। जो व्यापारी सड़क पटरी पर अवैध रूप से अतिक्रमण कर अपना व्यवसाय कर रहे हैं, वह दो दिन में स्वयं अतिक्रमण हटा लें। नगर व्यापार मंडल अध्यक्ष शिव कुमार गुप्त, सभासद दीनदयाल मोदनवाल, नीरज गुप्त मौजूद रहे।

अतिक्रमण पर नहीं लगाम, शहर में फैला जाम का झाम

संवादसूत्र उतरौला (बलरामपुर) : अतिक्रमण की समस्या दिन ब दिन लगातार बढ़ती जा रही है सड़क की पटरियों पर अस्थाई व स्थाई कब्जे के कारण मुख्य सड़क पर दिन में कई बार जाम की स्थिति पैदा हो रही है। जाम से सबसे ज्यादा परेशानी स्कूली छात्र-छात्राओं को हो रही है, जिन्हें तपती धूप में निकलने का रास्ता नहीं मिल पाता है। स्थानीय स्तर पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई न होने के कारण सड़क निर्माण में भी बाधा आ रही है।

गोंडा मोड़ से जिलेदारी तक, राजकीय कन्या विद्यालय से कस्बा चौकी तक,आयुर्वेदिक अस्पताल से बड़ी मस्जिद, श्यामा प्रसाद मुखर्जी से रोड कहीं भी पटरियां अतिक्रमण से मुक्त नहीं है। स्थानीय निवासी बार-बार सड़क की पटरियों से अतिक्रमण हटाने की मांग करते आ रहे हैं, लेकिन प्रशासनिक उदासीनता के कारण इस पर अमल नहीं हो पा रहा है। अतिक्रमण की समस्या से राहगीरों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। आए दिन दुकानदारों, वाहन सवारों व पदयात्रियों के बीच तकरार की स्थिति उत्पन्न हो रही है। उपजिलाधिकारी संतोष ओझा का कहना है कि सड़क की पटरियों व नालियों को अतिक्रमणमुक्त कराने का निर्देश दिया गया है। दुकानदार पटरियों से अतिक्रमण नहीं हटाते हैं, तो उनके विरुद्ध दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran