बलरामपुर : गन्ना किसानों का बकाया भुगतान दिलाने समेत अन्य समस्याओं को लेकर भारतीय किसान क्रांति यूनियन के जिलाध्यक्ष खलील शाह के नेतृत्व में धरना-प्रदर्शन किया गया। बाद में मुख्यमंत्री को संबोधित पांच सूत्री ज्ञापन एसडीएम के प्रतिनिधि राजस्व निरीक्षक रक्षाराम पांडेय को सौंपा गया। महदेइया बाजार में आयोजित धरने को संबोधित करते हुए जिलाध्यक्ष ने कहा कि पेराई सत्र समाप्त हुए छह महीने से ज्यादा समय बीत गया, लेकिन गन्ना किसानों को बेचे गए गन्ने का पूरा भुगतान आज तक नहीं मिला। बच्चों की पढ़ाई, घरेलू और खेती की जरूरतों को पूरा करने के लिए किसान कर्ज लेने को विवश हैं। गन्ने का अंतर मूल्य (डिफर) जिले की सभी चीनी मिलों ने दबा रखा है। बच्छराज वर्मा ने कहा कि राशन कार्ड में संशोधन के नाम पर हर महीने खेल किया जा रहा है। पात्र लोगों को समय पर खाद्यान्न नहीं मिल पा रहा है। पूर्व ब्लाक प्रमुख नन्हे खां ने रासायनिक उर्वरकों को मनमाने मूल्य वसूल किए जाने पर आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि बोरी का वजन पचास किलो से घटाकर पैंतालीस किलो कर दिया गया, लेकिन इसका दाम कम नहीं किया गया है। किशन कुमार ने प्रदेश सरकार के गढ्ढा मुक्त सड़कों के दावों को छलावा बताते हुए राजमार्ग और संपर्क मार्गों की बदहाली को ठीक कराने की मांग की। बड़ेलाल पांडेय, निसार अहमद, सत्यराम यादव, राजाराम, राजकुमार मौर्य, कुन्ने समेत तमाम लोग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran