बलरामपुर : अयोध्या के सुप्रीम फैसले का सभी वर्ग के लोगों ने स्वागत किया है। साथ ही आपसी सौहार्द से देश के गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल कायम रखने की अपील की है। लोगों ने नए भारत निर्माण के लिए एकजुट होकर साथ चलने की बात कही है।

- सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हैं। आपसी भाईचारा को कायम रखते हुए एक दूसरे के साथ खड़े होने का वक्त है। -लवकुश पांडेय, प्रोफेसर

- न्यायालय के फैसले का स्वागत है। संयम रखते हुए आपसी सौहार्द बनाए रखें। -मनीष श्रीवास्तव, नागरिक

-सुप्रीम फैसले ने देश को एकता के सूत्र में पिरोने का कार्य किया है। -राजेश सिंह, नागरिक

-बलरामपुर गंगा जमुनी की तहजीब रहा है। यहां के लोग सौहार्द के साथ रहते हैं। -जेबी सिंह, नागरिक

-इस निर्णय को सहजता से स्वीकारते हुए शांति व सौहार्द से परिपूर्ण एक भारत -श्रेष्ठ भारत के अपने संकल्प के प्रति कटिबद्ध रहे। दद्दन मिश्र, पूर्व सांसद

- सुप्रीम फैसले का सभी लोगों को मिलकर स्वागत करना चाहिए। संयम रखते हुए आपसी सौहार्द बनाए रखें। पल्टूराम, भाजपा विधायक सदर

-तुलसीपुर की जनता शांतिपूर्ण व सौहार्दपूर्ण वातावरण में रहना पसंद करती है। कैलाश नाथ शुक्ल, भाजपा विधायक तुलसीपुर

-गैंसड़ी की जनता को अमन पसंद है। वह आपसी सौहार्द से रहते हैं। शैलेश सिंह शैलू, भाजपा विधायक गैंसड़ी

-उतरौला की जनता सौहार्द पसंद है। यहां सभी मिल जुलकर रहते हैं। फैसले का सभी स्वागत करते हैं। रामप्रताप वर्मा, भाजपा विधायक उतरौला

- जिले में गंगा-जमुनी तहजीब को बरकरार रखते हुए हम सभी धर्म के लोगों को मिल जुल कर रहना चाहिए। मौलाना अब्दुल वहाब खां, प्राचार्य

- यायालय के फैसले ने राजनीतिक विद्वेश को खत्म कर दिया है। सभी को सम्मान करना चाहिए। मौलाना फैयाज अहमद मिसबाही

- न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए सभी लोग भाईचारा व अमन चैन को कायम रखें। डॉ. एसपी यादव, पूर्वमंत्री सपा नेता

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप